Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर
- Sponsored -

- Sponsored -

- sponsored -

अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर मधेपुरा का नाम रौशन करने वाले औषधीय किसान शम्भू शरण भारतीय पर दबंगों ने बरपाया कहर

पुलिस नही कर पाई है कोई कार्रवाई ,उल्टे भारतीय परिवार को कर लिया गिरफ्तार

- Sponsored -

- Sponsored -

मधेपुरा/ देश के ख्याति प्राप्त और कई राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर जिले का नाम रौशन करने वाले औषधीय किसान शम्भू शरण भारतीय और उनके परिवार के  मॉबलिंचिंग की हर ओर निंदा हो रही है. प्रशासन की सुस्ती कहें या संरक्षण में बीते कुछ दिनों से जिले की शान इस किसान को कुछ अपराधी और दबंग प्रवृति के लोग परेशान कर रहे थे. बीते दिनों कुछ लोगों ने उनके औषधीय पौधे की खेत में लगे फसल को नुकसान पहुँचाया था. फसल की सुरक्षा में लगे इनके भतीजे के साथ 16 और 18 मई को मारपीट भी की गयी थी. भारतीय ने इसकी लिखित शिकायत 21 मई को स्थानीय भर्राही ओपी में भी की. पुलिस ने स्थल निरिक्षण भी किया लेकिन कार्रवाई शून्य रही.

इस घटना के बाद दबंगों का मनोबल बढ़ा और वे बीते 25 मई से उनके निजी जमीन में मिट्टी गिरा कर रास्ता बनाना शुरू कर दिया. श्री भारतीय ने इसका विरोध किया और अपने निजी जमीन की घेराबंदी शुरू कर दी. इसके बाद जो हुआ वह काफी डराबना है. दबंगों ने भारे के अपराधियों के साथ मिल कर शम्भू शरण भारतीय और उनके परिवार के सदस्यों के साथ घर में घुस कर मारपीट कर दी. इस घटना में गावं के भी कुछ लोगों को उकसा कर उनके परिवार के ऊपर हमला कराया गया. पुलिस के सामने लाठी डंडे से लैश अपराधी भीड़ का सहारा लेकर तांडव करते रहे और पुलिस अपरधियों के साथ उन्हें और उनके परिवार वालों को घर से निकाल कर अपने गिरफ्त में लेती रही. परिवार के 9 पुरुष सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया जिसमें घायल शम्भू शरण भारतीय, उनका भाई, उनका भतीजा और उनका दो बेटा भी शामिल है.

विज्ञापन

विज्ञापन

इस मामले में भर्राही ओपी पुलिस ने उन लोगों के आवेदन पर पहला केस किया जिसके ऊपर शम्भू शरण भारतीय पूर्व में फसल नुकसान करने और अपने भतीजे के साथ मारपीट करने का आरोप लगाया था. शम्भू शरण भारतीय पर आम रास्ता को बंद करने का और केमिकल अटेक का आरोप लगाया गया. लेकिन शम्भू शरण भारतीय का कहना है कि वे अपने निजी जमीन में चाहरदीवारी दे रहे थे और गावं के दबंग लोग उनके निजी जमीन में किसी सरकारी योजना के तहत नहीं बल्कि अपने दबंगई के बल पर सड़क बनवाने में लगे थे. जिस केमिकल अटेक का आरोप उनके ऊपर लगा उस केमिकल से कोई घायल भी नहीं हुआ न पुलिस को कहीं केमिकल मिला . शम्भू शरण भारतीय और उनके परिवार पर हुए इस हमले से समाज का हर तबका सकते में है.

इप्टा के रष्ट्रीय परिषद् सदस्य सुभाष चन्द्र ने कहा की कृषि क्षेत्र में मधेपुरा की पहचान रहे शम्भू शरण भारतीय पर हुए जानलेवा हमले में शामिल हर अपराधी पर पुलिस कठोर कार्रवाई करे. प्रगतिशील लेखक संघ के पूर्व प्रदेश सचिव और बीएन मंडल विश्वविद्यालय के पूर्व कुलसचिव प्रो. सचिन्द्र ने हमले की घोर निंदा करते हुए जिले के एसपी और पुलिस के आलाधिकारी से हमलावरों पर कार्रवाई करने की मांग की. एआईवाईएफ के नेता शम्भू क्रांति, शिक्षक नेता संजय क्रांति फुटकर विक्रेता संघ के अध्यक्ष दिलीप पटेल ने भी घटना की निंदा करते हुए पुलिस से दोषियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग की है.

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

आर्थिक सहयोग करे

- Sponsored -

ADVERTISMENT

ADVERTISMENT

Comments
Loading...