Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर

- sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

जाने किस प्रकार से आप स्टेट बैंक में 15000 रूपए महीने कमा सकते है

- Sponsored -

- Sponsored -

जाने किस प्रकार से आप स्टेट बैंक में 15000 रूपए महीने कमा सकते है

विज्ञापन

विज्ञापन

कोसीटाइम्स @मध्यप्रदेश।

भारतीय स्‍टेट बैंक (एसबीआई) आपको एक ऐसा जबरदस्त मौका दे रहा है। जिससे आप 15000 रूपये महीने और आना जाना यहाँ तक की खाना भी फ्री ।बैंक ने एक ऐसा प्रोग्राम शुरू किया है की अगर आपका अकाउंट स्टेट बैंक में है तो इस प्रोग्राम में जिसके तहत आप गांव की सूरत बदलने में मदद कर सकते हैं। गांव में आप लोगों की उनके काम में मदद के अलावा यहां के छोटे बच्‍चों को भी पढ़ा सकते हैं। शहर की भागदौड़ भरी जिंदगी से दूर अगर आप गांव में कुछ महीने काम करना चाहते हैं तो भारतीय स्‍टेट बैंक (एसबीआई) आपको एक ऐसा जब्बरदस्त मौका दे रहा है जिससे आप 15000 रूपये महीने और आना जाना यहाँ तक की खाना भी फ्री,बैंक ने एक यूथ फेलोशिप प्रोग्राम शुरू किया है। इसके अंतर्ग्रत आपको काम कराने के लिए एसबीआई न सिर्फ ट्रेनिंग देगा,बल्कि हर महीने 15 हजार रुपए का स्‍टाइपेंड भी मिलेगा। इस फेलोशिप के तहत काम करने के लिए स्‍टाइपेंड के अलावा मेडिकल अलाउंस और ट्रैवलिंग अलाउंस भी मिलता है। एसबीआई यूथ फेलोशिप 13 महीने का प्रोग्राम है। इसके तहत ग्रेजुएट और यंग प्रोफेशनल्‍स को अनुभवी एनजीओ के साथ मिलकर गांवों में काम करने का मौका दिया जाता है।इसके जरिए युवा न सिर्फ एंटरप्रेन्‍योरशिप की कला सीखते हैं। बल्कि उन्‍हें कई प्रोजेक्‍ट्स को लीड करने का भी मौका मिलता है। इन प्रोजेक्‍ट्स से आप गांवों की स्थिति बदलने में मदद कर सकते हैं। इस यूथ फेलोशिप के तहत कई प्रोजेक्‍ट्स शामिल किए गए हैं। इसमें बच्‍चों को पढ़ाने समेत यहां के लोगों को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए उन्‍हें एंटरप्रेन्‍योरशिप की ट्रेनिंग देना भी शामिल है। एसबीआई यूथ फेलोशिप प्रोग्राम की वेबसाइट के मुताबिक,इस यूथ फेलोशिप में काम करने के लिए आपको सिर्फ 15 हजार रुपए का स्‍टाइपेंड ही नहीं मिलेगा। बल्कि जब आप इसे पूरा कर लेंगे,तो आपको 30 हजार रुपए का रीएडजस्‍टमेंट अलाउंस भी दिया जाएगा।

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

आर्थिक सहयोग करे

- Sponsored -

ADVERTISMENT

ADVERTISMENT

Comments
Loading...