Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर

- sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

समस्तीपुर : ताजपुर में सस्ती सब्जी के लिए मशहूर मोतीपुर मंडी आएं व्यापारी एवं उपभोक्ता

किसान बर्बादी के कागार पर- ब्रहमदेव प्रसाद सिंह,आम भोक्ता का क्रयशक्ति घटा- बंदना सिंह

- Sponsored -

प्रियांशु कुमार@समस्तीपुर

विज्ञापन

विज्ञापन

अगर आपको 2 रू० किलो फूलगोभी, 3 रू० किलो बंधा गोभी, 5 रू० भाटा बैगन, 15 रू० कच्चा केला, 15 रू० धनिया पत्ता, 8 रू० सीम, 12 रु० टमाटर, 10 रू० सग्गा प्याज, 22 रू० चुकंदर, 12 रू० आलू, 30 रू० प्याज, 40 रू० हरा मिर्च, 25 रू० किलो गाजर, 5 रू० प्रति पीस कद्दू लेना हो तो जिले के ताजपुर के एनएच किनारे स्थित चर्चित मोतीपुर सब्जी मंडी आएं.
मंडी में तहकीकात के बाद उक्त जानकारी देते हुए भाकपा माले प्रखण्ड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने उक्त जानकारी देते हुए कहा कि मकर संक्रांति के पूर्व इतनी सस्ती सब्जी की बिक्री समझ से पड़े है. उन्होंने जिले के करीब सभी मंडियों से सस्ती सब्जी मोतीपुर मंडी में उपलब्ध होने की बात बताया.


किसान महासभा के नेता ब्रहमदेव प्रसाद सिंह ने बताया कि डेढ़ रू० गोभी का पौधा खरीद कर रोपने, निकौनी करने, सिचाई करने, खाद- खल्ली देने, मजदूर से कटवाकर, ठेला भाड़ा देकर मंडी पहुंचाने के बाबजूद 2 से 3 रू० किलो गोभी बेचना पड़ता है. फायदा तो छोड़िये किसान को घर से मजदरी- भाड़ा देना पड़ता है. ऐसे ही हालात अन्य सभी सब्जियों का है. यह किसान की बर्बादी की दास्तान है.
क्षेत्र की चर्चित महिला नेत्री बंदना सिंह ने सस्ती सब्जी का कारण बताते हुए कहा कि नोटबंदी, कोरोना आदि के कारण आमजनों में क्रय शक्ति का आभाव है. ऐसे में सरकार द्वारा किसानों को केसीसी लोन माफ, फसल क्षति मुआवजा, नि: शुल्क बिजली, पानी, खाद, बीज, कृषि संयत्र देकर अगली फसल के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने की जरूरत है.
स्थानीय गद्दीदार सह आधारपुर निवासी कमलेश कुमार बताते हैं कि यह मंडी सैकड़ों एकड़ खेतों के बीच में अवस्थित है. किसान द्वारा सीधे सब्जी काटकर मंडी में लाया जाता है. फलतः किराये की होती है. कम कीमत रहने पर भी किसान को कुछ पैसे आ ही जाते हैं.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

आर्थिक सहयोग करे

Comments
Loading...