Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर

- sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

फॉल आर्मी वर्म के संभावित खतरे को लेकर समीक्षा बैठक आयोजित, कीटनाशी अनुज्ञप्तिधारियों को करें प्रशिक्षितः सहरसा डीएम

- Sponsored -

सुभाष चन्द्र झा 
कोसी टाइम्स@सहरसा 

विज्ञापन

विज्ञापन

जिलाधिकारी डा शैलजा शर्मा ने अपने कार्यालय वेश्म में फॉल आर्मी वर्म के संभावित खतरे के लिए गठित जिलास्तरीय कार्य समिति का समीक्ष सोमवार को किया. कृषि फसलों को फॉल आर्मी वर्म से संभावित खतरे के संबंध में जानकारी देते हुए कहा गया कि यह एक बहुभोजी कीट है जो ग्रेमिनी परिवार के प्लांट मक्का, मिलेट, ज्वार, धान, गेहुंं, गन्ना सहित अन्य मुख्य फसलों को इससे संभावित खतरा है. फॉल आर्मी वर्म की पहचान है कि इसका लारवा भूरा धूसर रंग का होता है. जिसके शरीर के साथ अलग से ट्यूबरकल दिखता है. इसके कीट के पीठ के नीचे तीन पतली सफेद धारियांं एवं सिर पर अलग सफेट उलटा अग्रेंजी शब्द का वाई लिखा दिखता है. इस कीट की मादा एक रात में सौ किलोमीटर से अधिक उड़ते हैं. यह कीट फसल के लगभग सभी चरणों को नुकसान पहुंंचाता है. लेकिन मक्का के पौधे के साथ-साथ बालि को भी विशेष रूप में प्रभावित करता है. प्राचार्य मंडन भारती कृषि महाविद्यालय अगवानपुर एवं वरीय वैज्ञानिक सह प्रधान कृषि विज्ञान केद्र अगवानपुर तथा जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि जिला में अब तक फॉल आर्मी वर्म पाये जाने की सूचना नहीं है. जहांं भी इस संबंध में सूचनाएं प्राप्त हुई है. वहांं जांंच दल भेजकर जांंच कराई गई और उनमें फॉल आर्मी वर्म नहीं पाया गया एवं उनमें अन्य कारण प्राप्त हुए हैं.

कृषि महाविद्यालय प्राचार्य उमेश सिंह ने कहा कि प्रारंभिक अवस्था में इस संबंध में सूचना प्राप्त होने पर इसका नियंत्रण किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि मक्का के प्रारंभिक अवस्था जहांं भी फॉल आर्मी वर्म दिखाई दे, उसके हॉर्ल में सूखा बालु एवं हल्का चूना का मिश्रण डालने से सफल नियंत्रण हो जाता है. जिलाधिकारी ने निदेश दिया कि कीटनाशी डीलर के यहांं सबसे पहले सूचना मिलती है. फलतः कीटनाशी विक्रेताओं की बैठक आहूत कर इस विषय पर चर्चा करने से जागरूकता बढ़ेगी तथा शीघ्र सूचना प्राप्त होने से समय पर कारवाई की जा सकेगी. जिले के सभी कीटनाशी अनुज्ञप्तिधारियों का प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर उन्हें प्रशिक्षित करें. उन्होंने कृषकों के स्तर पर व्यापक प्रचार कराने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि प्रखंड एवं पंचायत स्तर पर कृषि विभाग द्वारा गठित समिति की बैठक प्रत्येक माह की निर्धारित तिथि को करायें. एवं इस विषय से सबको अवगत करें. जिलाधिकारी ने कहा कि जिलान्तर्गत कहीं भी फॉल आर्मी वर्म कीट के संबंध में सूचना प्राप्त होते हीं त्वरित कार्रवाई करते हुए जांच दल द्वारा यथाशीघ्र निरीक्षण कराकर रिपोर्ट प्राप्त करें. मोबाइल तकनीक का सहारा लेकर अधिक से अधिक कृषकों को इस आशय का संदेश दें कि फॉल आर्मी वर्म कीट की सूचना मिलते हीं निकट पंचायत में अवस्थित पंचायत कृषि कार्यालय, प्रखंड कृषि, जिला कृषि कार्यालय को इसकी सूचना दें. जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में फॉल आर्मी वर्म के प्रकोप की कोई सूचना अब तक नहीं है. अफवाह से बचते हुए फॉल आर्मी वर्म कीट लक्षण प्राप्त होने पर कृषि विभाग के पदाधिकारियों, कर्मियों को तुरंत सूचना देंं. इसके अतिरिक्त मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के तहत जिला कार्यकारिणी समिति का गठन जिला पदाधिकारी के अध्यक्षता में किया गया. इस समिति का मुख्य कार्य प्रतिवर्ष नमूना संग्रहण, वार्षिक कार्य योजना, नमूना विश्लेषण, मृदा परीक्षण परिणाम के अनुसार प्रमुख फसलों के लिए समेकित उर्वरता प्रबंधन विकसित करना एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया जाना है. पायलट प्रोजेक्ट के तहत इस वित्तीय वर्ष में मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के क्रियान्वयन के लिए किसानों के होल्डिंग के आधार पर जिले के प्रत्येक प्रखंड के एक-एक राजस्व ग्राम का चयन कर उस ग्राम के सभी होल्डिंग से मिट्टी नमूना संग्रहण का कार्य किया जाना है. जिला कृषि पदाधिकारी दिनेश प्रसाद सिंह ने बताया कि इसके आधार पर मृदा स्वास्थ्य कार्ड तैयार किया जाएगा. जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि पायलट प्रोजेक्ट कार्यक्रम के तहत विभागीय निदेश के आलोक में समय सीमा के अंदर शत प्रतिशत मिट्टी नमूना संग्रहण, विश्लेषण एवं किसानों के बीच मृदा स्वास्थ्य कार्ड का वितरण करायें एवं इसके आधार पर किसानों को संतुलित उर्वरक के उपयोग के बारे में जानकारी दें. जिससे मिट्टी की उर्वरा शक्ति बनी रहे. पर्यावरण का संतुलन कायम रखते हुए तथा कम लागत में अधिक उत्पादन किया जा सके. बैठक में उप विकास आयुक्त राजेश कुमार सिंह, परियोजना निदेशक आत्मा सहित कृषि विभाग के वैज्ञानिक एवं पदाधिकारी मौजूद थे.

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

आर्थिक सहयोग करे

आर्थिक सहयोग करे

ADVERTISMENT

ADVERTISMENT

After Related Post Desktop 728X150
Comments
Loading...