Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर
- Sponsored -

- Sponsored -

- sponsored -

बिहार में 350 से ज्यादा थानेदार व सर्किल इंस्पेक्टर हटाए गए

- Sponsored -

- Sponsored -

कोसी टाइम्स न्यूज़ डेस्क@पटना

विज्ञापन

विज्ञापन

सरकार के तय मापदंडों में फिट नहीं बैठनेवाले थानेदार और सर्किल इंस्पेक्टर को हटाने की समय सीमा गुरुवार को खत्म हो गई। देर शाम तक पुलिस मुख्यालय को सभी जिलों से हटाए गए पुलिस अधिकारियों की संख्या नहीं मिल पाई थी। संभावना है की यह संख्या साढ़े तीन सौ से अधिक है। 18 जिलों से रिपोर्ट भेजी गई थी। इन 18 जिलों में 176 इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर को थानेदारी और सर्किल इंस्पेक्टर के पद से हटा दिया गया था।गृह विभाग ने थानेदार और सर्किल इंस्पेक्टर के पद पर तैनाती को लेकर मापदंड तय किए हैं। इसमें किसी न्यायालय द्वारा दोषीसिद्ध हुए या किसी कांड में अभियुक्त बनाए पुलिस अधिकारी को थानेदार या अंचल निरीक्षक नहीं बनाया जाता सकता है। इसके साथ ही विभागीय कार्यवाही के बाद तीन या उससे अधिक वृहद सजा मिली है और ऐसे पुलिस अधिकारी जिनके खिलाफ विभागीय कार्यवाही लंबित हैं, उन्हें भी थानेदार या सर्किल इंस्पेक्टर नहीं बनाया जाएगा। दागदार पुलिस अफसरों को थानेदारी और सर्किल इंस्पेक्टर के पद से हटाने की मियाद गुरुवार को समाप्त हो गई। पहले यह समय सीमा 31 जुलाई थी।

पुलिस महकमा ब्लैक लिस्टेड पुलिस पदाधिकारी की सूची लगभग तैयार कर चुका है। 15 अगस्त से पहले ऐसे पुलिस पदाधिकारियों पर कार्रवाई किए जाने की बात भी कही जा रही है। मालूम हो पुलिस की छवि सुधारने के लिए डीजीपी ने प्रदेश में स्वच्छ छवि के पुलिस पदाधिकारियों को थाना में तैनात करने का आदेश दिया है। साथ ही ब्लैक लिस्टेड थानाध्यक्ष और सब इंस्पेक्टर को हटाने का आदेश दिया है। सूत्रों के अनुसार जिले के कई थाने के थाना अध्यक्ष, इंसपेक्टर और एसआई विभिन्न आरोपों में घिरे हैं। ऐसी स्थिति में डीजीपी के निर्देश से पुलिस महकमे में हड़कंप की स्थिति है।

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

आर्थिक सहयोग करे

ADVERTISMENT

ADVERTISMENT

Comments
Loading...