Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर

- sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

इंटर स्टेट यात्रा के लिए अब ई-पास या प्रशासनिक अनुमति की जरूरत नहीं : डीएम

शर्तों के साथ बसों एवं सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट को परिचालन की दी गयी अनुमति

- Sponsored -

- Sponsored -

विकास वर्मा / पूर्णिया/ लॉकडाउन के चलते करीब दो महीने से बंद बसों और ऑटो का परिचालन सोमवार से शुरू हो गया है. इंटर स्टेट के लिए भी अब पास या अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी. यह जानकारी डीएम राहुल कुमार ने आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में दी. इस मौके पर एसपी विशाल शर्मा एवं प्रशिक्षु आई.ए.एस. प्रतिभा रानी भी मौजदू थे.

डीएम ने बताया कि शर्तों के साथ बसों एवं सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट को परिचालन की अनुमति दे दी गयी है. इसके लिए कुछ जरूरी शर्तें हैं जिसे वाहन मालिकों और यात्रियों को हर हाल में पालन करना पड़ेगा. इसके लिए गाइड लाइन जारी कर दी गयी है. डीएम ने बताया कि बस और ऑटो मालिकों को क्षमता भर यात्रियों को बैठाने की अनुमति दी गयी है. यानि ऑटो में चालक के अतिरिक्त अधिकतम तीन यात्री ही बैठ सकते हैं. इसी प्रकार बसों में सीटों की क्षमता के अनुरूप ही यात्री बैठेंगे. इसका कड़ाई से पालन किया जाएगा. क्षमता से अधिक पकड़े जाने पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी.

गाड़ी को प्रतिदिन धुलवाने, साफ-सुथरा रखने एवं प्रत्येक ट्रिप के बाद सैनिटाइज कराना अनिवार्य है. बस स्टेंड में दण्डाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी की स्टेटिक टीम की प्रतिनियुक्त की गयी है. यह टीम सार्वजनिक परिवहन से संबंधी निदेशों का सख्ती से अनुपालन कराएगी. गाड़ी में चढ़ते-उतरते वक्त फिजिकल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना होगा. डीएम ने बताया कि अब एक राज्य से दूसरे राज्य जाने के लिए पास या प्रशासनिक अनुमति की जरूरत नहीं पडेगी. अब कोई भी व्यक्ति अपने वाहन से आ-जा सकते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

क्षमता से अधिक यात्री बैठाने वालों पर होगी दंडात्मक कार्रवाई: एसपी विशाल शर्मा ने कहा कि सीटों से ज्यादा यात्री बैठाने वालों पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी. इसके अनुपालन के लिए बस पड़ाव में दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गयी है. जो यह देखेगा कि फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं सफाई संबंधी व्यवस्था का अनुपालन किया जा रहा है या नहीं. सीटों से ज्यादा यात्री बैठाने पर कार्रवाई की जाएगी.उन्होने बस मालिकों से अनुरोध भी किया है कि वे बसों की छतों अथवा सीट से अधिक यात्रियों को न बैठायें. इसका कड़ाई से पालन कराने के लिए जिला से लेकर अनुमंडल और प्रखंड स्तर तक के सभी पुलिस पदाधिकारियों को जवबदेही सौंपी गयी है. एसपी ने बताया कि कोरोना के संक्रमण बचाव के लिए सभी नागरिकों के लिए मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करना अनिवार्य है. इसका उल्लंघन करनेवालों पर कार्रवाई भी हो सकती है. उन्होने लोगों को इस दिशा में जागरूकता अभियान चलाने पर भी जोर दिया.

हर हाल में मास्क और सोशल डिस्टेंस का करें पालन : डीएम राहुल कुमार ने आम नागरिकों से अपील किया है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मास्क और सोशल डिस्टेंस का हर हाल में पालन करें. उन्होने बताया कि संक्रमण से बचने के लिए यही एक उपाय है. इसमें किसी प्रकार की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी. उन्होने बताया कि इसका उल्लंघन करनेवालों पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी. डीएम ने बताया कि पूर्णिया में कोरोना पॉजिटिव के बढ़ते केस से घबराने की जरूरत नहीं है. दरअसल हमने सैम्पल जांच की दर बढ़ा दी है. जाहिर है कि इसमें पॉजिटिव केस सामने आयेंगे. इसके प्रति नकारात्मक सोच नहीं रखनी चाहिए.

टेस्ट के प्रति लोगों को सकारात्मक सोच रखी चाहिए.सुकून का विषय यह है कि रिकवरी भी अधिक तेजी से हो रही है. उन्होने बताया कि पूर्णिया में प्रतिदिन कम से कम 160 लोगों के सैम्पल जांच की जा रही है. डीएम ने बताया कि डोर टू डोर सर्वेक्षण का कार्य शुरू है. पिछले दो दिनों में 15 हजार घरों का सर्वेक्षण किया जा चुका है. इसके लिए जिले में 618 स्वास्थ्य टीम गठित की गयी है. डीएम ने बताया कि इसके लिए प्रखंड जनप्रतिनिधियों का भी सहयोग लिया जा रहा है उन्हें भी इस बात की जवाबदेही सौंपी गयी है कि वे अपने स्तर से भी गांवों में लोगों को जागरूक करें.

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

आर्थिक सहयोग करे

- Sponsored -

ADVERTISMENT

ADVERTISMENT

Comments
Loading...