Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर
- Sponsored -

- Sponsored -

- sponsored -

राजकीय उच्च पथ 58 उदाकिशुनगंज से भटगामा सड़क पर मक्का किसानों का कब्जा

👉अंचल अधिकारी राकेश कुमार सिंह ने कहा ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से सूचना देकर कानून का उल्लंघन करने वाले पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी

- Sponsored -

मधेपुरा ब्यूरो/राजकीय उच्च पथ 58 उदाकिशुनगंज से भटगामा समेत अन्य सड़कों पर इन दिनों मक्का किसानों का कब्जा हो गया है। राहगीरों को उनकी मर्जी से ही सड़क पर चलना पड़ता है। क्योंकि सड़कों पर उनके मक्के सुखाए जा रहे हैं। अब तक आधे दर्जन से अधिक लोग इसके कारण असमय ही कलवित हो चुके हैं और प्रशासन मूक दर्शक बन कर केवल शवों के अंत्यपरीक्षण कराकर निश्चिंत हो रही है।बाइक सवार को हमेंशा फिसलले का डर बना रहता है।

विज्ञापन

विज्ञापन


बताया जाता है उदाकिशुनगंज-चौसा-भटगामा से नवगछिया सीमा तक ,फुलौत से उदाकिशुनगंज राष्ट्रीय उच्च पथ 106 की सड़क पर स्थानीय किसान मकई सुखाने में लगे रहे। इन सड़कों के आधे हिस्से पर फैले मक्का से बचने के लिए वाहन चालकों को बच निकलने में परेशानी होती है। जरा सी भी चूक हुई तो जिंदगी खतरे में पड़ते देर नहीं लगेगी। ग्रामीण इलाके की ओर निकलते ही सड़क पर मक्का के सिवाय कुछ और नजर नहीं आता हैं। कई स्थानों पर तो मक्का फैलाकर बांकी बचे सड़क के हिस्से पर ईंट-पत्थर के अवरोधक मिलते हैं। बाइक चालक की नजर अवरोधक पर नहीं पड़ी तो फिसलकर मक्के पर गिरते हैं। औऱ मौत के मुंह में समा जाते हैं।

इस ओर ना तो जनप्रतिनिधि ध्यान देते हैं और ना ही पदाधिकारी इस ओर कोई कदम उठा रहे हैं। जागरूक करने की आवश्यकता है। सड़क पर किसानों के द्वारा मक्का सुखाने का काम काफी तेजी से चल रहा है। जिससे लगातार छोटी-छोटी घटनाएं हो रही है। ऐसे कार्य को रोकने के लिए गांव में जाकर लोगों को जागरूक करने की जरूरत है ताकि यह सिलसिला रुक सकता है ।


अबुसालेह सिद्दीकी
जदयू नेता
किसानो के द्वारा मकई सुखाने के साथ साथ तो बड़ा बड़ा पत्थर रख दिया जाता है जो मकई से भी खतारनाक है। इस पर रोक लगना जरूरी है अन्यथा घटनाएं रुकने की जगह और बढ़ जायेगी।


पप्पू आलम

जाप प्रखण्ड उपाध्यक्ष एव्ं मीडिया प्रभारी,चौसा

सड़क पर मक्का सुखाना और मुख्य मार्ग को अवरुद्ध करने का किसी को कोई अधिकार नही है। किसानों मे जागरूकता लाने की अव्यश्यकता है। इसके लिए प्रशासन व सामाजिक कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधियों को आपस मे मिलकर गहन चिंतन कर पहल करने की अश्यवकता है। अगर कोई किसान नही माने तो कारवाई की जानी चाहिए।


रितेश यादव

प्रखण्ड युवा अध्यक्ष जन अधिकार पार्टी, चौसा
प्रशासन की जवाबदेही है कि सड़क पर मक्का सुखने से कैसे रोका जाय। लोगों को यह सोचना चाहिए कि हम अपने काम निकालने के लिए अपने समाज को लोगों को मौत के करीब पहुंचा रहे हैं। चूंकि दुर्घटना का शिकार होने वाले भी आसपास के पड़ोस या गाँवो के ही व्यक्ति होते है। लोगों मे जागरूकता आने से ही सड़क दुर्घटना मे कमी होगी।


सीमा गुप्ता

राजद नेत्री,चौसा

सड़क पर मक्का सुखाना गैर कानूनी है।यह एक अपराध है।चाहे वह ग्रामीण सड़क हो या फिर राजकीय सड़क हो। इसको तुरंत ही प्रशासन के पदाधिकारी रोक लगावे। तभी इसपर अंकुश लग सकता हैं।


मनोज राणा

युवा समाजसेवी,चौसा 
चौसा के विभिन्न सड़को पर सुखाए जा रहे मकई को लेकर किसानों को चेतावनी दी गई है।किसानों को कहा गया है कि सड़क पर मक्का नहीं सुखाएं बावजूद अगर किसान सड़क पर मक्का सुखा रहे हैं तो ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से सूचना देकर कानून का उल्लंघन करने वाले पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


राकेश कुमार सिंह

अंचल अधिकारी चौसा

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

आर्थिक सहयोग करे

Comments
Loading...