Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर

- sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

खगड़िया : 564वीं रैंक लाकर राजस्व पदाधिकारी बन गयी है प्रीति

राजस्व पदाधिकारी के पद पर की गयी है चयनित

- Sponsored -

खगड़िया/  जिले के महेशखूँट पंचायत क्षेत्र के राजधाम गाँव निवासी किरण कुमार सिंह (प्रधानाध्यापक चंद्रशेखर सिंह बालिका उच्च विद्यालय ) की पुत्री प्रीति कुमारी बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित 64वीं सिविल सेवा की परीक्षा में 564 वीं रैंक लाकर राजस्व सेवा में राजस्व पदाधिकारी के पद पर चयनित हुई है ।

राजधाम गाँव निवासी प्रीति चौहान का राजस्व सेवा में चयन किये जाने पर पूरे क्षेत्र में जश्न का माहौल हैं। प्रीति ने दसवीं की पढाई चंद्रशेखर सिंह बालिका उच्च विद्यालय महेशखूँट से की जबकि 12 वीं की पढ़ाई एस एम कॉलेज भागलपुर से की हैं। प्रीति ने राजनीति शास्त्र में स्नातक एस एम कॉलेज भागलपुर से ही की हैं तथा राजनीति शास्त्र में ही स्नात्कोत्तर नालंदा ओपेन यूनिवर्सिटी पटना से की हैं। ज्ञातव्य हो कि प्रीति शुरु से ही मेधावी छात्रा रही हैं और कक्षा में हमेशा अव्वल स्थान लाती थी। प्रीति ने बताया हैं कि हमेशा से ही सिविल सर्विस में आने का उनका सपना था और जिसके लिये वह लगन और मेहनत से लगी रही और अंततः सफलता हासिल की।

 

विज्ञापन

विज्ञापन

प्रीति के पिता किरण कुमार सिंह प्रधानध्यापक हैं जबकि माता रंजना सिंह खगड़िया जिले के चर्चित ओर्थोपीडिक हॉस्पीटल रंजना ओर्थो केयर की डायरेक्टर हैं.  किरण कुमार सिंह के तीन बेटियां एवं 2 बेटे हैं, सभी सरकारी अधिकारी हैं. बड़ी बहन ममता कुमारी पंजाब नेशनल बैंक में मैनेजर के पद पर कार्यरत हैं जबकि उनके पति बैंक ऑफ़ बड़ौदा में मुख्य प्रबंधक हैं। दुसरी बड़ी बहन ज्योति कुमारी यूको बैंक में मैनेजर हैं तथा उनके पति शैलेंद्र कुमार सिंह बिहार प्रशासनिक सेवा में भागलपुर में सीनियर डिप्टी कलेक्टर हैं।

इधर प्रीति के भाई डॉ योगेश कुमार भागलपुर के जवाहर लाल नेहरु मेडिकल कॉलेज में सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर हैं जो कि खगड़िया के जाने माने हड्डी एवं नस रोग विशेषज्ञ भी हैं तथा छोटा भाई अवनीश कुमार का आईआईटी रुड़की से पास आउट होने के बाद भारत सरकार के वित्त विभाग में चयन किया गया हैं।अपने सफलता पर बात करते हुए प्रीति ने बताया कि यह इनका दुसरा प्रयास था। 63 वीं बीपीएससी में इंटरव्यू दी थी लेकिन कुछ मार्क्स के कम होने के कारण फाइनल सेलेक्शन नहीं हो पाया था। इन्होने अपना कोचिंग मुखर्जी नगर नई दिल्ली में लिया था। मेंस में ऑप्शनल श्रम एवं समाज कल्याण विषय को रखकर पढ़ाई किया था.

कोचिंग के सम्बन्ध में बताया कि कोचिंग आपकी पढ़ाई और परीक्षा की तैयारी को एक दिशा देती हैं बाकि सफलता के लिये लगन और कड़ी मेहनत की बहुत जरुरत हैं। तयारी कर रहे अभ्यर्थियों से उन्होंने कहा सही दिशा में मेहनत करें सफलता जरुर मिलती है .

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

आर्थिक सहयोग करे

Comments
Loading...