Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर
- Sponsored -

- Sponsored -

- sponsored -

बिहार में डोमिसाइल नीति लागू किया जाए-बिट्टू कुमार

भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय मधेपुरा, के स्नातकोत्तर विज्ञान संकाय के कौंसिल मेंबर सह आतंरिक परिवाद समिति सदस्य बिट्टू कुमार ने कहा बिहार में डोमिसाइल नीति लागू नहीं होने का नाजायज फायदा उठाते हुए अन्य पड़ोसी राज्यों के अभ्यर्थी बिहार सरकार की नौकरियों में बड़ी तादाद में आवेदन करते हैं

- Sponsored -

कोसी टाइम्स ब्यूरो@मधेपुरा

विज्ञापन

विज्ञापन

भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय मधेपुरा, के स्नातकोत्तर विज्ञान संकाय के कौंसिल मेंबर सह आतंरिक परिवाद समिति सदस्य बिट्टू कुमार ने माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी से यह मांग किया है कि बिहारी छात्रों व बिहारी युवाओं की हितों की रक्षा और उनकी हकमारी पर अंकुश लगाने के लिए संविधान में आवश्यक संशोधन कर अन्य राज्यों की तरह बिहार में डोमिसाइल नीति लागू किया जाए! बिहारी छात्रों – युवाओं के लिए विभिन्न क्षेत्रों में कम से कम 85% से 95 फीसदी सीट आरक्षित हो! ताकि इनके वास्तविक अधिकार पर किसी और का कब्जा ना हो! क्योंकि बिहार में अब उच्च शिक्षा की बात हो या चिकित्सा, शिक्षा, विधि, तकनीकी ,अन्य नौकरी की या फिर सामान्य प्रतियोगी परीक्षाओं में रूचि रखने वाले प्रतिभावान छात्रों की एक लंबी कतारें है और शिक्षित बेरोजगारों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है जो एक बहुत बड़ी गहरी चिंता का विषय बना हुआ है! आज बिहार के शिक्षित युवा अभ्यर्थियों को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है! जहां एक ओर बड़ी आबादी वाली इस गरीब राज्य में सीमित सरकारी नौकरियां है! वहीं बिहार में डोमिसाइल नीति लागू नहीं होने का नाजायज फायदा उठाते हुए अन्य पड़ोसी राज्यों के अभ्यर्थी बिहार सरकार की नौकरियों में बड़ी तादाद में आवेदन करते हैं और बिहारी छात्र- युवाओं की हकमारी कर रहे हैं! विशेषकर असिस्टेंट प्रोफेसर सहित वैसे सभी नियुक्तियां जिसमें एकेडमिक रिकॉर्ड और अंक के आधार पर चयन किया जाता हो! उस प्रकार के चयन पद्धति वाली नियुक्तियों में सर्वाधिक बिहारी छात्रों के प्रतिभा का हनन और उनकी हकमारी हो रही हैं!

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

आर्थिक सहयोग करे

Comments
Loading...