Home » Recent (Slider) » मधेपुरा : महादलित परिवार आज भी है उज्जवला योजना से दूर

मधेपुरा : महादलित परिवार आज भी है उज्जवला योजना से दूर

Advertisements

मधेपुरा

केंद्र सरकार गरीब महिलाओं को स्वच्छ इंधन मुहैया करने के लिए महत्वाकांक्षी योजना उज्ज्वला योजना चलाई है. जिससें किसी महिला के आँखों से खाना पकाते वक्त आँशु न निकले, उसे साँस सम्बन्धी बीमारी न हो हो लेकिन उसकी जमीनी हकीकत कुछ और बयां करती है.मधेपुरा शहर से महज तीन-चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित सुखासन गावं के महादलित टोला के दर्जनों परिवार आज भी पारंपरिक धुवां युक्त जलावन का प्रयोग खाना पकाने के लिए कर रहे हैं.

मधेपुरा के सुखासन गावं के महादलित टोला में राज्य सरकार की योजनाओं के साथ केंद्र सरकार की भी महत्वकांक्षी योजना धुल फांक रही है. बस्ती में 2016 में स्थापित स्वच्छ पानी के लिए लगाया गया जल संयंत्र तबसे ही ठप पड़ा है तो केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी उज्ज्वला योजना का भी लाभ सभी गरीब दलित, महादलित परिवारों को नहीं मिल पाया है. घर, आँगन और छप्पर पर सुख रहे जलावन इस योजना की हकीकत बयां करती है. आज भी गावं के दर्जनों परिवार मिट्टी के चूल्हे पर इसी जलावन पर खाना पकाने को मजबूर हैं.लोग बताते है कई बार योजना का लाभ लेने का प्रयास भी किया लेकिन उन्हें इस योजना का लाभ नहीं दिया गया.

उज्ज्वला योजना की सफलता का दावा सरकार और प्रशासन दोनों करती है. इस सम्बन्ध में अनुमंडल पदाधिकारी की माने तो काफी लोगों को इस योजना का लाभ दिया गया है. कुछ लोग जो छूटे हैं उन्हें भी जल्द इस योजना का लाभ देने का भरोसा वो दिलाते हैं. बहरहाल सरकार अपनी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ जन-जन तक पहुँचाने की बात करती है. लेकिन सही निगरानी न होने से योजना सिर्फ कागजों की रिपोर्ट तक ही सिमित रह जाती है.देखना यह है की कब तक सरकार की कल्याणकारी योजना जनता के बीच घोषणाओं के अनुरूप पहुँच पाती है.

Comments

comments

x

Check Also

गंगा जमनी तहजीब एवं प्रेम की भाषा है उर्दू: डाॅ अब्बुल कलाम

सुभाष चन्द्र झा कोशी टाइम्स @ सहरसा . मंत्रिमंडल सचिवालय विभाग उर्दू निदेशालय बिहार सरकार पटना के तत्वावधान में मंगलवार ...