Home » Others » चौसा अस्पताल में नही है चहारदीवारी,जानवरों के बीच मरीजों का गुजरता है दिन

चौसा अस्पताल में नही है चहारदीवारी,जानवरों के बीच मरीजों का गुजरता है दिन

Advertisements

अस्पताल में खुलेआम विचरण करते हैं जानवर,मरीजों को हो रही है परेशानी

कोसी टाइम्स प्रतिनिधि@चौसा,मधेपुरा 

देश में स्वच्छ भारत अभियान चल रहा है। सरकार और जिला प्रशासन इसका पाठ पढ़ा रहें हैं। परन्तु चौसा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ही गंदगी है। यहाँ आने वाले मरीजों को सुअर, बकरियों और घोड़े के साथ बैठना पड़ता है। यह देखने वाला कोई नहीं।

अस्पताल परिसर के आसपास साफ-सफाई का अभाव और बाउंड्री नहीं रहने के कारण अस्पताल परिसर में पालतू जानवर प्रवेश कर जाते हैं। जिसे कोई भगाते नहीं हैं। इतना ही नहीं कीचड़ से निकलकर कुछ सुअर भी बरामदे की ओर पहुंचने लगे।घोड़े आउटडोर तक पहुंच जाते हैं और गार्ड देखते रहते हैं। मरीज को परेशान करने लगे। मरीज बताते हैं कि ऐसा प्रतिदिन होता है। अस्पताल में बाउंड्री नहीं होने के कारण ऐसा हो रहा है। पहले इस अस्पताल में चहारदीवारी थी, लेकिन लोग बताते हैं कि बारिश के कारण चहारदीवारी गिर गई।अस्पताल में चहारदीवारी का अभाव है। चहारदीवारी के अभाव में यहां मरीजों की सुरक्षा पर भी सवाल उठता रहा है।

प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अमित कुमार का कहना है कि चहारदीवारी न होने की वजह से यहां सबसे ज्यादा समस्या होती है। अराजकतत्वों के साथ ग्रामीणों और जानवरों का आना-जाना भी लगा रहता है। दिनभर जानवर परिसर में विचरण करते हैं। जिससे अस्पताल में आने वाले मरीज़ो पर बुरा असर पड़ता है।
इतना ही नहीं, परिसर में आवागमन का रास्ता भी बदतर है। बारिश के दिनों में तो परिसर में जलभराव के हालात बन जाते हैं। मरीजों को पानी के बीच से होकर आना-जाना पड़ता है। कई बार उच्च अधिकारी से व्यवस्थाएं कराने की मांग कर चुके हैं, लेकिन आज तक कोई सुनवाई नहीं हुई है।इस पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों को ध्यान दिया जाना चाहिए

देखें वीडियो,वीडियो देख कर रह जायेंगे दंग

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

त्रिवेणीगंज में उचक्कों ने डिक्की तोड़ उड़ाए 98 हजार रुपया

सतीश कुमार आलोक@त्रिवेणीगंज(सुपौल) त्रिवेणीगंज मुख्यालय स्थित मुख्य मार्ग एनएच 327 ई सड़क मार्ग में हीरो शोरूम के समीप मंगलवार को ...