Home » Breaking News » उदाकिशुनगंज में मोटेशन के नाम पर राशि की उगाही,सीओ ने धमकाया

उदाकिशुनगंज में मोटेशन के नाम पर राशि की उगाही,सीओ ने धमकाया

Advertisements

पीड़ित व्यक्ति ने लघु सिंचाई मंत्री को लिखा पत्र कहा सीओ साहब कहते हैं दो घुस तब होगा काम

अंचल कर्मचारी के खिलाफ की थी शिकायत,सीओ ने की बीस हज़ार रुपये की मांग

सरकारी कागज पर हस्ताक्षर के नाम पर आरोप मुक्त पत्र पर करवाया हस्ताक्षर

एसडीएम से की गई थी शिकायत

गौरव कबीर उदाकिशुनगंज,मधेपुरा

उदाकिशुनगंज मुख्यालय क्षेत्र में जमीन बड़े पैमाने पर खरीद फरोख्त की जा रही है।बड़े बड़े दलालों के द्वारा जमीन खरीद के वैल्यू से अधिक दामों में बेचा रहा है।इस खेल में कई बड़े-बड़े लोग शामिल हैं।10 से 12 लोगों का गिरोह चल रहा है।गरीब मजदूर व्यक्ति से राजस्व कर्मचारी के द्वारा बड़े पैमाने पर आवेद्ध राशि की उगाही की जा रही है।पीड़ित पक्ष के द्वारा अंचलाधिकारी को आवेदन दिया जाता है तो वे भी यही कहते हैं कि सहयोग करो विरोध करके क्या मिलेगा।मामले को लेकर पीड़ित पक्ष के बौकू पासवान पिता जोगेस्वर पासवान उम्र 51 वर्ष साकिम फन हन पंचायत रहटा थाना उदाकिशुनगंज निवासी ने बिहार सरकार के लघु जल संसाधन मंत्री से शिकायत की है।किये गए शिकायत में बौकू पासवान ने कहा है कि खाता संख्या 426 खेशरा 785/1766 रकबा 43 डिसमिल 600 वर्गकरी रहटा फन हन मौजा कबाला जमीन है।जमीन पर उनका दखल कब्ज़ा भी है।19 मार्च 2018 को जमाबंदी कराने हेतु अंचल में आवेदन दिया था।कई माह बीत जाने के पश्चात कुछ नहीं हो पाया ।कुछ समय बाद उन्हें राजस्व कर्मचारी रविन्द्र यादव और उनका प्राइवेट मुंसी रामानंद यादव ने जमाबंदी के नाम पर कार्यालय आकर मिलने को कहा ।कार्यालय पर जाने के बाद जमाबंदी की बात शुरू की गई।दोनो के द्वारा बौकू पासवान से 20 हज़ार रुपये की मांग की गई।समय बीत रहा था इसलिए बौकू ने 12 हज़ार रुपये राजस्व कर्मचारी को दे दिए।कर्मचारी ने बौकू को आस्वाशन दिया कि जमाबन्दी का कार्य हो जाएगा।लगभग एक सप्ताह के बाद अंचलाधिकारी के लिपिक प्रमोद राम ने अंचल कार्यालय बुलाया।लिपिक के द्वारा 5000 हज़ार रुपये की मांग की गई।बौकू ने लिपिक को बताया कि रुपये दे दिया गया है कर्मचारी से बात हो गई है।यह सुन लिपिक भड़क उठे उन्होंने सीधे तौर पर कह दिया कि बिना रुपये के जमाबन्दी नहीं होगा ।रुपये नहीं देने के कारण लिपिक के द्वारा मोटेशन निरस्त भी कर दिया गया।

पीड़ित बौकू पासवान

मामले की शिकायत को लेकर बौकू अंचलाधिकारी के पास  गया ।जहाँ अंचलाधिकारी के द्वारा राजस्व कर्मचारी और प्रमोद राम को बुलाया।डाँट लगाते हुए उन्होंने रुपये वापस करने और पुनः आवेदन लेकर जमाबन्दी प्रक्रिया शुरू करने की बात कही।बौकू के द्वारा पुनः 7 जून 2018 को आवेदन किया गया।आवेदन के पश्चात पुनः राजस्व कर्मचारी और लिपिक के द्वारा वही कहानी दोहरा दी गई।रुपये के खातिर फिर से आवेदन यह कहकर निरस्त कर दिया गया की जमीन पर बौकू पासवान का कब्ज़ा नहीं है।मामले को लेकर पुनः अंचलाधिकारी से शिकायत की गई तो उन्होंने कहा कि पागल मत बनाओ।फिर आवेदन ऑनलाइन करो।इस बात अंचलाधिकारी ने खुद जमाबन्दी करने की बात कहने की जहमत उठायी।कुछ माह पश्चात 4 अप्रैल 2019 को ऑनलाइन आवेदन किया।अंचलाधिकारी के द्वारा आश्वासन दिया गया कि वे खुद जांच कर मामला देखेंगे।एक दो सप्ताह के पश्चात बौकू उनसे मिला।मिलने के बाद जो बात उनके द्वारा कही वह बात सुनकर बौकू के होश उड़ गए।उन्होंने कहा कि जाओ लिपिक प्रमोद राम से मिलकर काम करा लो।पुनः प्रमोद राम से मिले तो 10 हज़ार रुपये की मांग कर दी गयी।जिसमे अंचलाधिकारी की हिस्सेदारी की बात कही गई। पीड़ित बौकु पासवान ने अंचला अधिकारी विजय कुमार राय पर आरोप लगाते हुए कहा कि जमीन के कागजात एवं मोटेशन के नाम पर 20 हज़ार की घूस मांगी गई। इस संबंध में विभागीय अधिकारियों को पत्र लिखकर शिकायत की गई किए गए शिकायत में स्पष्ट तौर पर लिखा हुआ था कि जमीन के कागजात सही करने एवं मोटेशन करने के नाम पर 20 हज़ार की मांग की गई है।मामले में सीओ से जवाब तलब की गई तो उन्होंने सरकारी कागज पर हस्ताक्षर करने के नाम पर पीड़ित पक्ष बौकु पासवान से हस्ताक्षर करवा लिया और आरोप को हटवा लिया गया।कुछ ही दिनों बाद गलत तरीके से अगले पक्ष का मोटेशन कर दिया गया।
थक हारकर एसडीएम उदाकिशुनगंज से शिकायत की गई।उन्होंने आस्वाशन दिया कि जांचोपरांत कार्यवाही की जाएगी।कई दिन बीत गए अबतक कोई कार्यवाही नहीं कि गई।अब बौकू पासवान चिंतित है उनके जमीन का क्या होगा।क्या वह जमीन बिचौलियों के चक्कर मे रसूखदार लोगों के हत्थे चढ़ जाएगा।उन्होंने बिहार सरकार के मंत्री से न्याय की गुहार लगाई है।

इधर अंचलाधिकारी विजय कुमार रॉय ने कहा की सभी आरोप निराधार हैं ।बौकू पासवान कई जगहों पर आवेदन दिया है। फिलहाल वे कार्यालय में नहीं है।

देखें वीडियो,बौकू पासवान की जुबानी 

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

मधेपुरा में क्राइम अनकंट्रोल : फिर गरजी बंदूक, एक की स्थिति गंभीर

शंकरपुर ,मधेपुरा निरंजन कुमार मधेपुरा में अपराधियों के बंदूक की गर्जन बन्द नही हो पा रहे है।अभी बीते कल ही ...