Home » Others » समस्तीपुर की बंदना,दलित-गरीब-वंचितों की हिफाजत के लिए सड़क पर लड़कर मजबूर हस्ताक्षर बनी

समस्तीपुर की बंदना,दलित-गरीब-वंचितों की हिफाजत के लिए सड़क पर लड़कर मजबूर हस्ताक्षर बनी

Advertisements

**कई बार पुलिस-प्रशासन से सीधी लड़ाई लड़ चुकी हैं

**पुलिस लाठीचार्ज में घायल भी हुई,कई मुकदमें झेल रही हैं

**एमए,बीएड करके,निजी विद्यालय के प्रिंसिपल भी हैं

प्रियांशु कुमार@समस्तीपुर 

रहिमाबाद पंचायत के बहादुरनगर में खानदानी बसे दलित भूमिहीनों को उजारने आये सीओ प्रकाश कुमार सिंहा के नेतृत्व में सैकड़ों पुलिस से जमकर लड़ी और पुलिस को ट्रेक्टर, जेसीबी लेकर लौटने पर मजबूर कर देने को लेकर एक बार फिर चर्चा में आई बंदना सिंह।राजनीति शास्त्र से एमए बीएड कर एक निजी विद्यालय की प्रिंसिपल के रूप में कार्य कर अपने परिवार की भरण-पोषण करने के साथ दलित,गरीब,बंचितों एवं महिला हित की लड़ाई में हमेशा अग्रीम मोर्चे पर डटा रहना उनकी आदत में सुमार है।वे अपने छात्र जीवन तकरीबन 1992 से ही छात्र संगठन आइसा से जुड़कर सड़क पर संघर्ष चलाकर आंदोलन को आवेग देती रही हैं।यही कारण है कि इनपर दलित, गरीब, बंचित एवं अक्लियत समुदाय इनके के आवाज पर दौड़े-दौड़े आ जाते हैं। इनका आंदोलन पुलिस- प्रशासन के लिए कई बार सिरदर्द साबित हुआ है।परिणामस्वरूप पुलिस प्रशासन के कोपभाजन का शिकार इन्हें कई बार होना पड़ा है।बिजली सुधार आंदोलन समेत अन्य कई आंदोलनों में पुलिस लाठीचार्ज में घायल होने, कई फर्जी मुकदमा के अभियुक्त बनाये जाने के बाद भी संघर्ष के मैदान में डटी है। करीब 3-4 साल पहले भी बहादुरनगर दलित बस्ती को खाली कराने आये डीसीएलआर,सीओ, थानाध्यक्षों समेत सैकड़ों पुलिस से महिलाओं को साथ लेकर सामने की लड़ाई में पुलिस बल को भागने पर मजबूर कर चुकी हैं। सरकारी जमीन पर कब्जाधारी दबंग मनोज सिंह के ईशारे पर बुधवार को सीओ प्रकाश कुमार सिंहा के साथ बड़ी संख्या में उपस्थित पुलिस बल से जोरदार भीरंत के बाद पुलिस को वापस होना पड़ा हलांकि झड़प में दो महिलाओं सुनीता देवी एवं रधिया देवी घायल हो गई। इन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। सीओ पर एफआईआर की मांग पर रात्री में ही भाकपा माले ने बंदना सिंह के नेतृत्व में प्रतिरोध मार्च निकाला। माले कार्यकर्ता अपने घायल महिला साथी के ईलाज के स्थान को भी घेराबंदी कर रखा था। मौके पर कई बार भीरंत भी हुआ। रात्री करीब 9-30 बजे जिला के वरीय पदाधिकारी के निर्देश पर ताजपुर थानाध्यक्ष दलबल के साथ आकर तत्काल मुहल्ला खाली कराने पर रोक लगाने,इसे लेकर 28 अगस्त को ताजपुर थाना पर एसडीओ, सीओ, थानाध्यक्ष, पीड़ित परिवार एवं माले कार्यकर्ताओं की बैठक करने के घोषणा के बाद मामला का पटाक्षेप हो गया।

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

सही पोषण अस्तित्व,स्वास्थ्य और विकास की आधारशिला-नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश शर्मा

मुज़फ़्फ़रपुर से राहुल कुमार की रिपोर्ट सही पोषण लोगो को स्वस्थ बनाता है तथा अंत मे स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण ...