Home » Recent (Slider) » ना जाने मेरा दिल

ना जाने मेरा दिल

Advertisements

ना जाने मेरा दिल

ना जाने मेरा दिल
तेरी गलियों में आने को
क्यों बेताब रहता है
राहों से गुजरते वक्त
क़दमें थम सी जाती है
और चेहरे पर


उदासी के भाव छा जाते हैं
तेरी पायल की रुन झून से
धड़कनो की रफ़्तार
तेज होने लगती है
मानो कोई मुसीबत आने वाली है
ठीक उसी तरह
जिस तरह कुसहा का तटबँध
टूटने के बाद
पानी का सैलाब
आया था


लोगों का सब कुछ बर्बाद हो गया था
लोगों का घर उजाड़ते
और लोगों को
जिंदा दफनाते
आई थी
लोगों को मिला था
केवल उजड़ता घर
और अश्रुधार
शायद वही अहसास
मुझे मिला
तुझ से नाता जोड़ कर

संजय कुमार सुमन

स्वतंत्र पत्रकार सह साहित्यकार 

मंजू सदन,चौसा{मधेपुरा}

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

सुपौल:पिपरा प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का समापन

मिथिलेश कुमार कोसी टाइम्स@पिपरा,सुपौल पिपरा प्रखंड के भागीरथ उच्च माध्यमिक विद्यालय मैदान में गुरुवार को प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का ...