Home » Recent (Slider) » साहित्य में आज पढ़िए शीला मंडल की रचना ‘जल ही जीवन है’

साहित्य में आज पढ़िए शीला मंडल की रचना ‘जल ही जीवन है’

Advertisements

जल ही जीवन है
जल के बिना कल नहीं
कितनो को तू जीवन देती
कितनो का तू जीवन लेती
जल है तभी कल हैं ।
मत रुठ तू मत टूट तू
तेरे बिना न रहेगा गागर
न रहेगा सागर ।।
कल कल धारा बहता झड़ना
कहाँ से कोइ लाएगा
धरती की प्यास कौन बुझायेगा ?

तेरे बच्चे तड़प तड़प के मर जायेंगे
तू जो न रह पायेगी।
न हरा होगा न हरियाली
बिरान सी धरा बंजर कहलायेगा।
न मौसम राग सुनाएगा
जल ही जीवन कैसे बन पाएगा?
बारी खेत खलियान
खाली खाली सा नजर आयेगा।
नदी तू बहना न छोड़
तोड़ न हजारो का दिल
जल ही तो जीवन है ।
जल है तो कल है
जल नही तो सब छल हैं।

जन जन करे पुकार
तू जो न हो तो जीना है बेकार ।
तेरे तट पर ही चलती है कईयों
की जिंदगानी ।
गाँव शहर बसे हैं तेरे तट पर,गूँजती है कई सन्तों की वाणी
जल ही जीवन है
सुनाती है कई कहानी
इसके बिना नही है जिंदगानी ।।

 

शीला कुमारी

मधेपुरा,बिहार

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

सुपौल:पिपरा प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का समापन

मिथिलेश कुमार कोसी टाइम्स@पिपरा,सुपौल पिपरा प्रखंड के भागीरथ उच्च माध्यमिक विद्यालय मैदान में गुरुवार को प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का ...