Home » Recent (Slider) » बोलोॅ भैया रामे राम हो माय,कोशी सन बेदरदी

बोलोॅ भैया रामे राम हो माय,कोशी सन बेदरदी

Advertisements

बोलोॅ भैया रामे राम हो माय

रचनाकार-अज्ञात

बोलोॅ भैया रामे राम हो माय
कोशी सन बेदरदी जग में कोय नय ।
चीन देश में नदी ह्वांगहो
चीनक शोक कहाय ।
भारत के उत्तर बिहार में
निष्ठुर कोशी माय ।।
बोलोॅ भैया….
जहँ उपजै छल कनकजीर
अरू नाजिर पलिया धान ।
ताहि ठाम के नारीनर के
अल्हुआ राखै प्राण ।।
बोलोॅ भैया…….

 

 

 

 

जतय चलै छल मोटर गाड़ी
पानी ततय अथाह ।
बासडीह के कुण्ड बनौलक
बांसो न लैअछि थाह ।।
बोलोॅ भैया……..
धन दौलत सब कुछ हरलक ई
किछु नहि छोड़लक शेष ।
मलेरिया काला बुखार पिलही देलक सन्देश ।।
बोलोॅ भैया……….

 

 

 

 

कतह से आनव दवा
कुनायन दूध गाय के, धान ।
कतह से आनव साबूदाना
कोना के बाँचत प्राण ।।
बोलोॅ भैया…….
धैरज राखह मंगरू भैया
मन नहि करक मलान ।
समय पाय तरूवर फरैत अछि
जानत सकल जहान ।।
कोशी बाँधक हित तत्पर छथि
वृद्ध युवक ओ बाल ।
भारत के सेवक समाज
श्रमदानी दल बेहाल ।।
उपद्रवी दुष्टा कोशी के
भेटतय खूब सजाय ।
बाँधि के मुसुक बाँध सब
क्यों मिलि जेल में देत ढुकाय ।।
जहिना नन्दन स्वर्ग लोक में
रखइछ अनुपम वेश ।
ताहू से बढ़ि चढ़ि के हेतौ
तोहर मिथिला देश ।।
बोलोॅ भैया …….

@प्रस्तुति-संजय कुमार सुमन 

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

शंकरपुर थानाध्यक्ष को मनमर्जी पड़ गया भारी, एसपी ने किया लाइन हाजिर

शंकरपुर ,मधेपुरा निरंजन कुमार पिछले दिनों थाना क्षेत्र के मोरा झरकहा पंचायत के वार्ड नं 13 झरकहा में दवंगो के ...