Home » Recent (Slider) » पूर्णिया:रूपौली में शिक्षकों ने बैठक कर सात सूत्री मांगों के समर्थन में लिया निर्णय,18 जुलाई को करेंगे विधानसभा का घेराव

पूर्णिया:रूपौली में शिक्षकों ने बैठक कर सात सूत्री मांगों के समर्थन में लिया निर्णय,18 जुलाई को करेंगे विधानसभा का घेराव

Advertisements

मंजुला देवी कोसी टाइम्स रूपौली,पूर्णिया

अपने विभिन्न मांगों के समर्थन में शिक्षक 18 जुलाई को विधानसभा का घेराव करेंगे । ऐसा निर्णय बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ की बैठक में सोमवार को मुख्यालय स्थित मां काली मंदिर प्रांगण में लिया गया । इस बैठक की अध्यक्षता शिक्षक उपेंद्र कुमार जायसवाल ने की, जबकि मुख्य अतिथि के रूप में जिलाध्यक्ष पवन कुमार जायसवाल मौजूद थे । मंच संचालने शिक्षक मु. तबरेज ने किया । मौके पर जिलाध्यक्ष श्री जायसवाल ने सभी शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि अब सरकार हद पार कर गई है, जिसका जवाब आंदोलन से ही दिया जा सकता है । सरकार हमेशा धोखा देती आ रही है । सरकार ने अभी तक उनकी मांगों को हमेशा की तरह टालती आ रही है । इसी को लेकर 18 जुलाई को सभी शिक्षक पटना की चढाई करेंगे तथा अपनी मांग को मनवाकर ही रहेंगे । उन्होंने कहा कि उनकी सात सूत्री मांग है कि सरकार पुराने नियमित शिक्षकों की तरह ही वेतनमान के साथ-साथ सेवा-शर्त दे, राज्यकर्मी के साथ-साथ पुराना पेंशन, अनुकंपा में टीईटी की बाध्यता समाप्त करने आदि को लेकर ही विधान सभा का घेराव किया जाएगा । इसके लिए सभी साथी यहां से बस, ट्रेन आदि से 18 की सुबह पटना पहूंचें तथा विधानसभा का घेराव कर सरकार को अपनी षक्ति से परिचय करा दिया जाएगा । इस अवसर पर प्रखंड अध्यक्ष विकास कुमार ने कहा कि इसबार हर परिस्थिति में सरकार को उनकी मांगें माननी ही होगी ।

इस अवसर पर जिलाध्यक्ष पवन कुमार जायसवाल, प्रखंड अध्यक्ष विकास कमार, महासचिव सुनीत कुमार, शंकु कुमार, मुषम्स तबरेज, जयशंकर सुमन, कुंदन भारती, मु रियाजुदीन, मधुसूदन ठाकुर, राजेष कुमार, नरेश कुमार, दुर्गेष कुमार, परमानंद कुमार, संजय कुमार, मनोज साह,शम्भू मंडल, विश्वप्रकाश, कल्याणी कुमारी, अरूणा कुमारी, रेखा कुमारी, घनष्याम कुमार, सुनील कुमार, चक्रधर कुमार सहित सभी शिक्षक उपस्थित थे।

Comments

comments

x

Check Also

सुपौल : मानव श्रृंखला में उम्मीद से ज्यादे पहुंचे लोग,मंत्री ने कहा हर वर्ग लोगों ने किया है समर्थन

अजय सिंह सुपौल वर्षों बाद एक बार फिर अपार संख्या में लोग सड़क पर उतड़ कर पर्यावरण खतरे को समझते ...