Home » Recent (Slider) » पूर्णिया:रूपौली के नक्सल प्रभावति कई गांवों का सडक कटने से आवागमन बाधित

पूर्णिया:रूपौली के नक्सल प्रभावति कई गांवों का सडक कटने से आवागमन बाधित

Advertisements

**नई नंदगोला गांव के पास सडक कट गई है, सभी तरह के वाहनों का हुआ बंद, लोगों में भारी आक्रोश

मंजुला देवी कोसी टाइम्स रूपौली,पूर्णिया

रूपौली प्रखंड के लगभग एक लाख की आवादी को जोडने वाली टीकापटी डुमरी सडक के कटने से नक्सल प्रभावित क्षेत्र का थाना एवं मुख्यालय से कट गया है, जिससे यहां के लोगों में काफी आक्रोश है ।  इस सडक के हालात की खबर एक पखवारा पहले प्रमुखता से छाापा था तथा अंदेशा व्यक्त किया था कि अगर सडक की मरम्मती नहीं हुई तो आवागमन बाधित हो सकता है, परंतु प्रशासन एवं नेता अनजान बने रहे । आज नतीजा है कि भारी बारिश के कारण नई नंदगोला के पास यह सडक कट गई तथा आवागमन बाधित हो गया ।

यह बता दें कि इस सडक से तीन पंचायतों सहित मोहनपुर क्षेत्र के गांवों का सीधा आवागमन होता है । खासकर बरसात में तो यह सडक मुख्य सडक बन जाती है । इस सडक के किनारे टीकापटी, बघवा, बघवाबासा, नई नंदगोला, सपाहा, पुरानी नंदगोला, डुमरी सहित कोयली सिमडा पूरब पंचायत के सिमडा,कोशकीपुर तथा मोहनपुर ओपी के लगभग आधा दर्जन गांव बसे हैं, जिनकी आवादी लगभग एक लाख है । इस सडक के टूट जाने से यहां के लोगों के सामने मुसिबतों का पहाड टूट पडा है । बच्चों की पढाई सहित चिकित्सा सुविधाएं भी बाधित हो गई हैं । यहां की मुखिया सुनीता देवी, शांति देवी, पूर्व मुखिया विवेकानंद सिंह, सरपंच उशा देवी, जदयू महासचिव सखीचंद मंडल, पैक्स अध्यक्ष कैलाष भारती, सरपंच रतन कुमार रतन, पंचायत समिति सदस्य प्रमोद मंडल, राजेश तिवारी सहित सभी प्रभावित गांवों के लोगों ने कहा कि ऐसा लगता है कि यहां कोई विधायक-एमपी हैं ही नहीं, यहां बस यही कहावता चरितार्थ है कि रोम के पोप की तरह यहां के अधिकारी एवं विधायक-एमपी बांसुरी बजा रहे हैं । कोई उनकी मुशीबत देखनेवाला नहीं है । उन्होंने सरकार से तत्काल प्रभाव से सडक मरम्मती कर आवागमन शुरू करने की मांग की है ।

Comments

comments

x

Check Also

सुपौल : मानव श्रृंखला में उम्मीद से ज्यादे पहुंचे लोग,मंत्री ने कहा हर वर्ग लोगों ने किया है समर्थन

अजय सिंह सुपौल वर्षों बाद एक बार फिर अपार संख्या में लोग सड़क पर उतड़ कर पर्यावरण खतरे को समझते ...