Home » Recent (Slider) » BNMU ने पीएटी 2019 परीक्षाफल में किया विलम्ब, माया ने लताड़ा

BNMU ने पीएटी 2019 परीक्षाफल में किया विलम्ब, माया ने लताड़ा

Advertisements

मधेपुरा

भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय भले ही अपने व्यवस्था को सुदृढ़ करने का दावा करता हो लेकिन असलियत अब भी लेट लतीफी वाली ही है।अभी हाल ही में प्री पीएचडी टेस्ट हुआ जिसका परिणाम 28 जून को ही आना था लेकिन दो बार तिथि बदलाव के बाद आज मंगलवार को भी रिजल्ट जारी नही हो पाया।

मंगलवार को रिजल्ट के लिए घोषित तिथि के बाद भी जब परिणाम विश्वविद्यालय ने जारी नही किया तो छात्रों ने शोशल साइट्स पर विश्वविद्यालय को लताड़ना शुरू कर दिया।माया के अध्यक्ष राहुल यादव ने तो परिणाम के देरी पर सवाल ही खड़ा कर दिया है।उन्होंने विवि प्रशासन पर रिजल्ट में देरी के लिए घोल मोल करना बताया है।अपने फेसबुक पोस्ट में उन्होंने लिखा है कि

माननीय कुलपति महोदय प्री.पीएचडी टेस्ट का रिजल्ट दे दीजिए न कितना डेट बढाईएएगा सर जितना घाल मेल करना था उ तो करिये लिए होंगे आप दु गो डेट बढ़ाये हमलोग कुछ बोले लेकिन विद्युत आपूर्ति कौन बहाना है आपके यहाँ तो बड़ा जेनरेटर है जिससे आपके आवास का भी AC चलता है। प्रश्न-पत्र छापे आप, एग्जाम लिए आप, रिजल्ट भी उसी का होगा जिसका आप चाहेंगे फिर लेट क्यों कर रहे हैं सर।…बेचारा प्रतिकुलपति जी भी आपके चक्कर में घिस जाते हैं नहीं हो रहा है आपके यहाँ रिजल्ट तो किसी सायबर कैफे में जाकर चढ़ा दीजिये न।
फिर आप हमको को कुछ किसी के पास नहीं बोलियेगा नहीं तो लोग हमको बोल देते हैं और हमको गुस्सा आ जाता है पुराना वाला।
प्लीज सर रिजल्ट दे दीजिए आज ही नहीं तो दिक्कत होगा।

इस सबन्ध में जब विश्वविद्यालय प्रशासन से बात किया गया तो रिजल्ट देरी का कारण लगातार विधुत का कटना बताया।हालांकि ये बात थोड़ा असहज करता है कि एक विश्वविद्यालय बिजली के कट के कारण रिजल्ट देने में देरी कर रहा है जबकि विश्वविद्यालय के पास जेनरेटर उपलब्ध है जिससे साहब लोग का एयर कंडीशन भी चलता है।कोसी टाइम्स को प्रशासन ने जानकारी दिया है कि बुधवार को रिजल्ट जारी कर दिया जाएगा।

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

चौसा ने चल रहे पोलियो का यूनिसेफ के उपक्षेत्रीय पर्यवेक्षक अभयकांत श्रीवास्तव ने किया निरीक्षण

पाकिस्तान में 6 केस तथा अफगानिस्तान में निकले 3 केस 27 मार्च 2014 को भारत बना पोलियो मुक्त देश भारत ...