Home » Breaking News » कटिहार:पत्रकार को दबंग राजनीति का शिकार बना कर चिकित्सा पदाधिकारी ने कराया फर्जी मुकदमा

कटिहार:पत्रकार को दबंग राजनीति का शिकार बना कर चिकित्सा पदाधिकारी ने कराया फर्जी मुकदमा

Advertisements

न्यूज़ डेस्क@ कोसी टाइम्स

खबरों से खिन्न रसूखदार चिकित्सक ने अपने गुनाह छिपाने के लिए पत्रकार पर फर्जी आरोप लगा कर पुलिस पर दबाव बनाया और झूठा मुकदमा लिखवा दिया
शासनादेश और माननीय न्यायालय के आदेशों की धज्जियाँ उड़ाते हुए पुलिस ने बिना किसी जांच के एक पल गवाये, कटिहार के पत्रकार पर तत्काल मुकदमा दर्ज कर लिया
मामला कटिहार जिले के फलका थाने की है। जानकारी के मुताबिक अस्पताल की व्यवस्था व प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के मनमानी की खबर लिखने के कारण फलका अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने फलका के तीन पत्रकारों पर झूठे मुकदमे लिखा कर कलम को रोकने का प्रयास किया गया।

पत्रकारों द्वारा लगातार अस्पताल के खबर छापे जाते रहे हैं ।अपने खिलाफ लगातार छपते समाचारों से खिन्न पीएचसी प्रभारी को पत्रकार से निपटने का मौका नही मिल पा रहा था, परन्तु अस्पताल प्रभारी ने अवैध वसूली का आरोप पत्रकार पर मढ़ते हुए फर्जी मुकदमा लिखा कर फसाने का मौका गवाने से नही चूके।
फलका के पीएचसी प्रभारी के प्रभाव में आकर स्थानीय पुलिस ने शासनादेश और माननीय न्यायालय के आदेशों की धज्जियाँ उड़ाते हुए पत्रकार के खिलाफ तहरीर मिलते ही मुकदमा दर्ज कर लिया, जबकि शासनादेश और माननीय न्यायालय के आदेश अनुसार पत्रकार के खिलाफ तहरीर मिलने पर पुलिस को वरिष्ट आला अफसरो के संज्ञान में डालने के साथ आरोप की सत्यता से जांच होनी चाहिए और साबित होने के बाद मुकदमा लिखा जाना चाहिए था।
सूत्र यह भी बताते हैं कि अस्पताल प्रभारी की मनमानी इस कदर व्याप्त है कि डर से कोई भी अस्पताल कर्मी अपनी मुँह तक नहीं खोलते हैं। अस्पताल में माफिया राज कायम रखने हेतु झूठे मुकदमे लिखाने और बाद में निपटाने के नाम पर सौदेबाजी आदि जैसी अनेकों चर्चाओं का बाजार गर्म रहा।
अब सवाल यह उठता है कि घटना की लिखित जानकारी पुलिस अधीक्षक कटिहार, डीएम कटिहार एवं सीएस कटिहार को पूर्व में ही दे दी गई थी। बावजूद इसके पीएचसी प्रभारी की दबंगई से स्थानीय पुलिस दबाव में कैसे आ गई।
डीजीपी का लिखित आदेश है कि पत्रकार मामले को लेकर पुलिस गंभीर रहेगी और जांचोपरांत ही कोई कार्रवाई की जाएगी। स्थानीय पुलिस की उक्त करतूत जहाँ पुलिस की निष्पक्षता पर सवाल खड़ा कर रही है तो वहीं प्रदेश सरकार और डीजीपी को भी सवालों के कठघरे में खड़ा करती नज़र आ रही है। क्यूंकि पत्रकारो की मदद करने के नाम पर उल्टा पत्रकारो को फर्जी फंसा कर उनका उत्पीड़न कर रही है।

इसे भी पढ़ें 

✍ कटिहार: फलका पीएचसी प्रभारी की मनमानी, पत्रकारों को दी धमकी??
http://dhunt.in/5YdUb?ss=wsp&s=pa
✍ कटिहार: फलका पीएचसी प्रभारी की मनमानी, पत्रकारों को दी धमकी??

कटिहार:फलका पीएचसी प्रभारी की मनमानी,पत्रकारों को दी धमकी

कटिहार: फलका पीएचसी की एएनएम माला पर अवैध वसूली का आरोप??
http://dhunt.in/5PU8W?ss=wsp&s=pa

✍ कटिहार: फलका पीएचसी की एएनएम माला पर अवैध वसूली का आरोप??

कटिहार: फलका पीएचसी की एएनएम माला पर अवैध वसूली का आरोप

✍ कटिहार:बीडीओ ने फलका पीएचसी का किया औचक निरीक्षण,प्रभारी पीके सिंह मिले अनुपस्थित

कटिहार:बीडीओ ने फलका पीएचसी का किया औचक निरीक्षण,प्रभारी पीके सिंह मिले अनुपस्थित

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

आईएएस की नौकरी छोड़ने वाले कन्नन गोपीनाथन मधेपुरा में करेंगे जन संवाद

मधेपुरा अभी हाल में आईएएस की नौकरी छोड़कर देश में विभिन्न मुद्दों पर मुखर होकर बोलने वाले कन्नन गोपीनाथ 6 ...