Home » Recent (Slider) » AIIMS के मुद्दे पर पूरा सीमांचल हो एकजुट ,पढ़िए स्नेहा किरण की अपील

AIIMS के मुद्दे पर पूरा सीमांचल हो एकजुट ,पढ़िए स्नेहा किरण की अपील

Advertisements

स्नेहा किरण

आपकी बात @ कोसी टाइम्स.

जैसा की आप सब जानते है कि 11,000 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला लगभग डेढ़ करोड़ की आबादी को समेटे आज हमारे ,हम सबके सीमांचल की सबसे बड़ी अनिवार्य आवश्यकता AIIMS पर गत 30 जनवरी 2019 को सहरसा ,17 फरवरी 2019 को मधेपुरा ,सुपौल ,त्रिवेणीगंज के बाद 25 फरवरी 2019 को सौरबाज़ार ( प्रखंड परिसर ) सहरसा में भी आयोजित यह महापंचायत पूरी तरह सफ़ल रही ; इसके लिए सीमांचल वासियों का ह्रदय से आभार !!
हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ गौतम कृष्ण के मार्गदर्शन में पीपुल्स पॉवर की टीम की इस संघर्ष-यात्रा की गूँज को संसद-भवन तक पहुँचाना है ,और इसके लिए पूरे सीमांचल वासियों से एकजुट होने की अपेक्षा है।अन्य राजनीतिक पार्टीयों के युवाओं से , सदस्यों से तमाम कार्यकर्ताओं से भी अनुरोध है कि वो सब दलगत राजनीति की भावना से ऊपर उठकर AIIMS के मुद्दे पर एकजुट रहे ।

11,000 वर्गकिलोमीटर के क्षेत्र में फैला लगभग डेढ़ करोड़ की आबादी को समेटे हुए अपने सीमांचल को AIIMS जैसे हेल्थ सेंटर का एक मुद्दत से इंतज़ार है।सीमांचल में AIIMS जैसी स्वास्थ्य संस्थाओं की जरूरत एक अरसे से महसुस की जा रही हैै।बेहतर चिकित्सा सुविधा के अभाव में यहाँ के लोगों को दूर-दराज ईलाज के लिए भटकना पड़ता है । संपन्न परिवार तो फिर भी हिम्मत कर बड़े-बड़े प्राइवेट मेडिकल सेंटर्स में चले जाते है पर जो सरकार द्वारा तय किए गए गरीबी की परिभाषा के तहत आते है , वैसे भूमिहीन , मजदूर वर्ग , किसान परिवार के लोगो को जिन्हें दोनों वक़्त का खाना मय्यसर नहीं होता उनके लिए ईलाज का खर्चा वहन कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है।

लिया हुआ कर्ज बढ़ता जाता,और जमीन -जेवर सब गिरवी पड़े रहते।महिलाओं और किशोरियों की हालत तो और भी दयनीय हो जाती है।उनके लिए चिकित्सा सुविधाएं ऐसे भी परिवार की सभी आवश्यकताओं की पूर्ति करने के बाद दोयम दर्जे की बात होती है।आर्थिक तौर पर पिछड़ा हुआ होने के साथ-साथ कई तरह की प्राकृतिक आपदाओं से जूझता रहा अपना सीमांचल एक युग से बेहतर और निःशुल्क चिकित्सा सेवाओं की बाट जोह रहा है।आज सहरसा सरकार द्वारा AIIMS निर्माण के लिए प्रस्तावित सभी शर्तों को पूरा कर रहा है।

सरकार द्वारा अधिगृहित 217 एकड़ जमीन के साथ यहाँ किसी मेडिकल कॉलेज का न होना , दूर-दराज के क्षेत्रों से संपर्क में बने रहने के लिए हवाई अडड्डे का मौजूद होना, रेल स्टेशन और बस स्टैंड से प्रस्तावित भूमि की दूरी नजदीक होना ,सघन आबादी वाला क्षेत्र , ऊँचा और बाढ़ के पानी से अप्रभावित प्रस्तावित भूमि का मौजूद होना और आर्थिक रूप से पिछड़ा इलाका होना सब मिलाकर सहरसा सीमांचल में AIIMS निर्माण के लिए ही सीमांचल में सबसे मुफ़ीद इलाका है।

मेरा आप सबों से यही अनुरोध है की कृपया आप सब सीमांचल में AIIMS निर्माण के लिए शुरू किए गए इस अभियान को सफ़ल बनाए  और AIIMS निर्माण के हर चरण में अपनी सक्रिय सहभागिता दे।मुझे आज AIIMS जैसे संवेदनशील मुद्दे पर पुरे सीमांचल की आधी आबादी से भी दो शब्द कहने की बलवती इच्छा है-

आज AIIMS के लिए अभियान चलाने वाले पीपुल्स पॉवर के सभी सदस्यों को पूरे सीमांचल वासियों का खासकर महिलाओं और किशोरियों का वास्तव में और व्यवहारिक रूप से काफी सहयोग चाहिए। जैसा कि हम सब जानते है की कोई भी संस्था या कोई भी बड़े से बड़ा या छोटे से छोटा जन आंदोलन दुनिया की आधी आबादी की सहभागिता के बगैर पूरी तरह सफ़ल नहीं हो सकता है ये मानी हुई बात है।

सीमांचल की सभी महिलाओं और किशोरियों से अनुरोध है कि आप सब व्यापक स्तर पर पीपुल्स पॉवर के द्वारा चलाए जा रहे इस मुहीम का हिस्सा बने , और AIIMS निर्माण के हर चरण में अपना सक्रिय योगदान दे। हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का यह कथन आज भी बहुत ही प्रासंगिक है की महिलाओं की भागीदारी किसी भी जन आंदोलन की सार्थकता की आधारशिला होती है और क्यों न हो एक जागरूक महिला से पूरा परिवार , पूरा समाज , पूरा जिला ,पूरा राज्य और अंततः पूरा राष्ट्र जागरूक बनता है।

 

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

समस्तीपुर में निजीकरण से भी जर्जर विधुत व्यवस्था में सुधार नहीं,होगा आंदोलन

**विवेक-विहार मुहल्ला में कम वोल्टेज के कारण सबमर्सिबल- मोटर नहीं चल पा रहा **शिकायत की अनदेखी करते अधिकारी एवं कर्मी, ...