Home » Others » सहरसा में कोशी प्रमंडलीय स्तरीय सह जिला स्तरीय खरीफ कर्मशाला आयोजित

सहरसा में कोशी प्रमंडलीय स्तरीय सह जिला स्तरीय खरीफ कर्मशाला आयोजित

Advertisements

**खरीफ अभियान को सफल बनाने में सभी तन मन से करें कार्य मे सहयोग-जिला कृषि पदाधिकारी 
सुभाष चन्द्र झा
कोसी टाइम्स@सहरसा
प्रमंडलीय स्तरीय सह जिला स्तरीय खरीफ कर्मशाला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन गुरुवार को कलाभवन में किया गया. कार्यक्रम का उद्धाटन आयुक्त के सचिव, उप विकास आयुक्त राजेश कुमार सिंह, संयुक्त निदेशक सांंख्यिकी बिहार अरूण कुमार, संयुक्त निदेशक शष्य राम प्रबोध ठाकुर, उप निदेशक रसायन शतीश कुमार, जिला कृषि सहरसा पदाधिकारी दिनेश प्रसाद सिंह, सुपौल एवं मधेपुरा राम विलास मिश्र, बन प्रमंडल पदाधिकारी, परियोजना निदेशक आत्मा सहरसा, सुपौल एवं मधेपुरा एवं सहायक निदेशक उद्यान सहरसा, सुपौल एवं मधेपुरा के द्वारा संयुक्त रूप से किया गया. संयुक्त निदेशक शष्य द्वारा खरीफ महाअभियान के अन्तर्गत जिलावार लक्ष्य का उपावंटन दिया गया. साथ ही शत प्रतिशत लक्ष्य प्राप्ति का निदेश दिया गया.

जिला कृषि पदाधिकारी श्री सिंह ने स्वागत भाषण दिया. उन्होंने खरीफ मौसम में चलायी जा रही योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी. उन्होंने श्री विधि, जीरो टिलेज से खेती, पैडी ट्रासप्लान्टर, तानावरोधी, संकर धान बीज वितरण, जैविक खेती, कृषि यांत्रिकीकरण, के लक्ष्य के बारे में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि खरीफ मौसम में धान की बुआई में सूक्ष्म पोषक तत्व, पौधा संरक्षण रसायन, खरपतवारनाशी, जिप्सम, सलफ्र, जैव उर्वरक का लक्ष्य अनुदानित दर पर कृषकों को उपलब्ध कराया जायेगा. उप निदेशक रसायन ने खरीफ अभियान में सभी कृषि समन्वयक, किसान सलाहकार को किसान के यहां से मिट्टी नमूना संग्रह के सम्बन्ध में अद्यतन जानकारी दी. श्री विधि एवं जीरो टिलेज से खेती के बारे में वरीय वैज्ञानिक के द्वारा बताया गया कि तकनीकी रूप से खेती करने से किसान का समय एवं लागत दोनो बचता है. कृषि विज्ञान केन्द्र अगवानपुर के कार्यक्रम समन्वयक ने बताया गया कि खरीफ फसलों में विभिन्न क्रियाओं को वैज्ञानिक रूप से करने से किसान को वहुत ही लाभ प्राप्त होगा. ई विमलेश कुमार पाण्डेय ने जीरो टिलेज एवं मशीन के रख रखाव के वैज्ञानिक पहलुओं पर विस्तृत जानकारी दी. कृषि वैज्ञानिक ने खरीफ में दलहनी, तेलहनी फसलों की खेती करने के तरीके के वारे में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि किसान केवल उर्वरक, बीज का प्रयोग समय से करेगे तो उत्पादन में स्वतः वृद्धि होगी जिससे आर्थिक स्थिति को सुधारा जा सकता है. उद्यान के सम्बन्ध में जिला उद्यान पदाधिकारी ने लक्ष्य के बारे में जानकारी दी. फसलों में लगने वाले कीट के बारे में डा साह के द्वारा विस्तृत जानकारी दी गई. संयुक्त निदेशक शष्य ने खरीफ अभियान को सफल बनाने के लिये सभी कर्मीयों को तन मन से कार्य करने का निदेश दिया. उन्होंने किसानों के बीच पूरी तत्परता से कार्य करने की सलाह दी.

प्रशिक्षण कार्यक्रम में अनुमंडल कृषि पदाधिकारी, सहरसा, सुपौल एवं मधेपुरा, प्रखंड कृषि पदाधिकारी, सहरसा, सुपौल एवं मधेपुरा, उप परियोजना निदेशक आत्मा राजेश कुमार, प्रखंड तकनीकी प्रबंधक, सहायक तकनीकी प्रबंधक, कृषि समन्वयक, लेखापाल, पंकज कुमार परासर, किसान सलाहकार एवं प्रगतिशील कृषक कर्मी जयदेव मिश्र, सर्वेश कुमार, इरशाद आलम, दीपा कुमारी, माधवानंद, मिथिलेश कुमार, रोहित झा मौजूद थे.

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

सहरसा नया बजार हुआ अतिक्रमण मुक्त, नाले से हटाया गया अतिक्रमण

सुभाष चन्द्र झा कोसी टाइम्स@सहरसा नगर परिषद के द्वारा रविवार को नया बजार मे सड़कों तथा नाला पर से अवैध ...