Home » Others » मधेपुरा:प्रखंड के कई पंचायतों में एक साथ गली-गली योजना का जिला पदाधिकारी द्वारा करवाया गया भौतिक सत्यापन

मधेपुरा:प्रखंड के कई पंचायतों में एक साथ गली-गली योजना का जिला पदाधिकारी द्वारा करवाया गया भौतिक सत्यापन

Advertisements

**भतखोरा पंचायत के वार्ड नंबर 2 ,3 ,4 ,5 ,6 ,11 वार्ड नंबर वार्ड प्राक्कलन के अनुसार नहीं किया गया था निर्माण

**ग्रामीणों ने जांच टीम के सामने जमकर निर्माण का किया विरोध संबंधी अनियमितता को उजागर

पिंटू कुमार भगत

कोसी टाइम्स@जीतापुर,मधेपुरा
मुरलीगंज प्रखंड अंतर्गत कई पंचायतों में जिला पदाधिकारी के आदेशानुसार सात निश्चय योजना के तहत गली नली योजना का भौतिक सत्यापन एक साथ टीम गठित कर किया गया। इस योजना के तहत टीमें मुरलीगंज प्रखंड के भतखोरा,जीतापुर,तमौट परसा ,पोखराम परमानंद पुर ,बेलो ,दिनापट्टी सखुआ ,नाढ़ी , पंचायत में निर्मित गली नाली योजना का अवलोकन पदाधिकारी के द्वारा किया गया ।

मुरलीगंज प्रखंड के भतखोरा पंचायत के विभिन्न वार्डों में गली नाली योजना के तहत गली एवं नली का निरीक्षण अफजल खुर्शीद,उप समाहर्ता के द्वारा किया गया। पंचायत के वार्ड न० 11 में बताया कि मुरलीगंज के और सभी पंचायतों में भी जांच चल रही है हमारी प्रतिनियुक्ति मुरलीगंज के भतखोरा पंचायत के गली नाली योजना के भौतिक सत्यापन के लिए की गई है और हम इसकी जांच रिपोर्ट जिला पदाधिकारी को सौंपेंगे। उन्होंने मौके पर वार्ड नंबर २ ,3 ,4 ,5,6,11,12 में जांच के दौरान सात निश्चय योजना के अंतर्गत गली निर्माण में अनियमितता देखें और जब गली की चौड़ाई नापी गई तो कई जगह कुछ कम था और वार्ड 11 में कई फिट नाला का निर्माण नहीं हुआ। मगर एम बी फ़ाइनल हो गया। वही जांच टीम के सामने लोगों ने गली निर्माण में बढ़ती गई। अनियमितता का लोगों के सामने जमकर खुलासा किया कई लोगों ने पैर हाथ टूटने का वजह बताया ।स्थानीय ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि इससे पहले हम बिना नाले के ही ठीक थे नाला निर्माण होने के कारण पहले हमारे घरों तक टैंपू और रिक्शा पहुंच जाती थी पर अब नहीं पहुंच पाती है। कई जगह तो हमारी बेटी की शादी लगने बावजूद रिश्ते नहीं होने की वजह से रिश्ते तोड़ लिए। ग्रामीणों ने मौके पर जांच टीम के पदाधिकारियों से कहा कि हम लोगों को नाले को तोड़ का हटा दिया जाए और हमें गली की सड़क ही बना दी जाती तो बेहतर रहता। नाले की कोई उपयोगिता नहीं है आए दिन हम बुजुर्ग और बच्चे के हाथ पैर टूटते रहते हैं। मवेशियों को भी आने-जाने में दिक्कत होती है या उपयोगिता विहीन, नाले का निर्माण पदाधिकारी ,वार्ड सदस्य की मिलीभगत से किया गया है। सभी जगह घटिया बालू ,घटिया सीमेंट का प्रयोग किया गया है कई जगह तो नाला टूट भी गया है। जैसे वार्ड 5 ,11 ,२ में घटिया निर्माण की वजह से वार्ड सदस्य एवं पदाधिकारी मालामाल हो गए।

उप समाहर्ता ने मौके पर बताया कि यह योजना बिल्कुल सही है प्राक्कलन के अनुरूप नहीं बना है। हम अपनी रिपोर्ट भेज देंगे कार्रवाई करना बड़े पदाधिकारियों का काम है।
वहां से निकलने के बाद भतखोरा पंचायत के वार्ड नंबर 4 मैं गली की सड़क का भौतिक सत्यापन किया। मौके पर उन्होंने सड़क को एक जगह से बीच में तोड़कर देखा तो पाया की सड़क की ढलाई बीच में 3 इंच ही है वही किनारे पर अवलोकन के उपरांत उन्होंने बताया कि बगल से गड्ढा खोदकर 5 या 6 इंच क की पीसीसी ढलाई चकमा देने के लिए निर्मित की गई है बड़ी अनियमितता का मामला है।

इसकी रिपोर्ट भी हम वरीय पदाधिकारी को करेंगे।स्थानीय ग्रामीण एवं वार्ड की जनता ने किए गए काम में अनियमितता की बातें बताई है जो सामने भी है।वही अन्य वार्डों में निर्मित योजनाओं का भी वह भौतिक सत्यापन करते दिखे।अधिकांश ग्रामीणों ने बताया कि यहां जांच टीम को मैनेज करने की बात करते हुए सुना गया। मेजरमेंट बुक के अनुसार कहीं भी नाले की चौड़ाई और नाले का निर्माण समूचे प्रखंड में अगर अगर सभी योजनाओं का जांच करवाया जाए तो मामले की सच्चाई कुछ और ही नजर आएगी।मौके पर जे इ अमरेन्द्र कुमार ,ग्राम सेवक ,वार्ड सदस्य ,इरफ़ान आलम ,गब्बर साह सहित कई लोग मौजूद थे।

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

सहरसा नया बजार हुआ अतिक्रमण मुक्त, नाले से हटाया गया अतिक्रमण

सुभाष चन्द्र झा कोसी टाइम्स@सहरसा नगर परिषद के द्वारा रविवार को नया बजार मे सड़कों तथा नाला पर से अवैध ...