Home » Recent (Slider) » मैं एक औरत हूँ

मैं एक औरत हूँ

Advertisements

मैं एक औरत हूँ

मैं एक औरत हूँ
आँचल में बंधी हजारों सपनों की उड़ान हूँ
हाँ खूबसूरत हूँ मैं
पर बस यही मेरी पहचान नहीं है।
एक दिन दूर निकल जाऊँगी

दुल्हन के लिए इमेज परिणाम
सात समुद्र भी छोड़ आगे बढ़ जाऊंगी
कितना भी बांध लो औरत के ढाँचे में
तोड़ ये ढांचा इंसान बन जाऊंगी।
मेरे जीवन को चंद मुसकान के पलो में
नहीं बाँधूगी।
तोड़ सोच की दीवारों को एक नया कल बना
जाऊंगी।
मैं एक औरत हूँ
ये भूल जीना सीख जाऊंगी।

राखी सरोज

बदरपुर,दिल्ली 

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

शुरुआत क्षणो में ईभीएम में आई गड़बड़ी को फौरन ठीक कर सुचारूपूर्वक हुआ मतदान,कई केन्द्र पर बीएलओ की हुई शिकायत

सुभाष चन्द्र झा कोशी टाइम्स @ सहरसा. लोकसभा चुनाव के तृतीय चरण में मधेपुरा लोकसभा एवं खगड़िया लोकसभा के लिये ...