Home » Recent (Slider) » सहरसा में दो दिनों से रूक रूक कर हुई वर्षा से शहर हुआ पानी पानी, किसानों के चेहरे से गायब हुई रौनक

सहरसा में दो दिनों से रूक रूक कर हुई वर्षा से शहर हुआ पानी पानी, किसानों के चेहरे से गायब हुई रौनक

Advertisements

सुभाष चन्द्र झा
कोसी टाइम्स@सहरसा
दो दिनों से रुक रुक कर हो रही वर्षा से एक ओर जहां पूरा शहरी क्षेत्र जलजमाव से ग्रसित हो गया है. वही किसानों के चेहरे से रौनकता पूरी तरह गायब हो गयी है. शनिवार के सुबह से हीन रुक रुक कर हो रही वर्षा एवं ओले भी गिरन सो लोग हलकान हैं. रविवार को पुनः एक बार बारिश ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया. बेमौसम हुई बारिश से किसानों के माथे पर बड़ा शिकन पैदा कर दिया है. इससे कुछ दिन पूर्व भी जिले में हुई ओलावृष्टि एवं वर्षों से गेहूं की फसल सहित आम एवं लीची को बड़ा नुकसान पहुंचा था. वही इस बार की वर्षा ने किसानों का कमर तोड़ दिया है. खेतों में गेहूं पक कर तैयार खड़े हैं. कुछ किसानों ने गेहूं की कटाई भी शुरू कर दी है. इस वर्षा ने किसानों के चेहरे पर मायूसी ला दी है. गेहूं का उपजा फसल किसानों के घर तक नहीं पहुंच पा रहा है. जबकि इससे पूर्व अल्प वृष्टि के कारण धान की फसल पूरे जिले में नहीं हो पायी थी. किसानों की स्थिति खराब थी. उन्होंने बडी मेहनत से गेहूं का फसल बोया था. अब गेहूं की तैयार फसल भी वर्षा एवं ओलावृष्टि का भेंट चढ़ गया है. ऐसे में किसानों की हालत समझी जा सकती है. किसान किंकर्तव्यविमूढ़ बने हुए हैं. उनकी तैयार फसल घर नहीं पहुंच पायी है. जबकि किसानों को गेहूं के अच्छे पैदावार की उम्मीद थी. वे लहलहाते फसल को देख खुश हो रहे थे. उनके खुशी पर एकबार फिर तुषारापात हुआ है. वहीं बेमौसम हुई बरसात से शहरी क्षेत्र में जलजमाव की स्थिति बन गयी है. शहर के मुख्य सड़क से लेकर गली मोहल्लों में जलजमाव के कारण लोगों को घरों से निकलना कठिन हो गया है. क्षतिग्रस्त मुख्य सड़कों पर पानी लगने से दुर्घटनाएं काफी बढ़ गयी है. लोग घर पहुंचने के बदले अस्पताल पहुंच रहे हैं.
जलजमाव से हो रही परेशानी 
शहर के सभी मुख्य चौक चौराहे पर जलजमाव होने से शहरवासियों की परेशानी काफी बढ़ गयी है. शहर की लगभग सभी मुख्य सड़कें पूरी तरह क्षतिग्रस्त हैंं. इन क्षतिग्रस्त गड्ढों में जलजमाव होने से दुर्घटनाएं काफी बढ़ गयी है. लोगों का घरों से निकलना कठिन हो गया है. खासकर महिलाओं की मुश्किलें काफी बढ़ गयी है. शहर के प्रशांत मोड़, तिवारी टोला, हटिया गाछी ढाला, कोशी चौक, चांदनी चौक, रिफ्यूजी कॉलोनी, नया बाजार सहित अन्य जगहों पर सड़क पर बने बड़े-बड़े गड्ढों में जलजमाव होने से सुरक्षित घर तक पहुंचने कठिन हो गया है. मोहल्लों की हालत भी वर्षा के कारण काफी खराब है. हर घर नल का जल को लेकर मोहल्ले में खोदे गये गड्ढे इस वर्षा के कारण जानलेवा बन गये हैं. नल का जल के लिये पाइप बिछाने का काम किया गया था. इन सड़कों को पाइप बिछाने के बाद इसी तरह छोड़ दिया गया है जो इस वर्षा ने जानलेवा बन दिया है. मोहल्ले वासियों को घरों से निकलना मुश्किल हो रहा है.

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

सीतामढ़ी : कोरोना संदिग्ध की जानकारी देना पर गया महंगा ,कर दिया हत्या

सीतामढ़ी /बिहार बिहार के सीतामढ़ी जिले में कोरोना वायरस के संदिग्ध की जानकारी देने वाले एक युवक की पीट पीट ...