Home » Breaking News » कांग्रेस पार्टी बिहार में 11 सीटों पर अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारेगी-कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह

कांग्रेस पार्टी बिहार में 11 सीटों पर अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारेगी-कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह

Advertisements

**कांग्रेस और महागठबंधन के बीच फंसा-शत्रुघ्न सिन्हा

कुमार अमरेश

कोसी टाइम्स@दिल्ली

बीजेपी के बागी नेता शत्रुघ्न सिन्हा के कांग्रेस ज्वाइन करने पर अटकलों का सैलाब सा आ गया है। अपने दस साल पहले तक के सुगठित पार्टी संचालन से अलग आज के कांग्रेस में सर्वत्र असमंजस ही दृष्टिगोचर है। पार्टी श्री सिन्हा को पटना सिटी सीट से टिकट तो देना चाहती है किन्तु कांग्रेस की हस्ती अब वो नहीं रही कि सहयोगी दलों से अपनी बात आसानी से मनवा ले। महागठबंधन के कई धरे हैं जो स्वयं को कांग्रेस से बड़ा संगठन और अधिक जनाधार वाला मानते हैं । इस स्थिति में सीटों के आवंटन में कांग्रेस कि महत्ता कमजोर हो रही है। इन सभी मुद्दों कि शुरुआत कुछ पहले ही दरभंगा कि सीट को लेकर शुरू हुआ था । एक ओर जहाँ कांग्रेस बीजेपी से आये श्री कीर्ति झा आज़ाद को वहां से उतारकर बीजेपी को चोट पहुँचाने कि अनुभूति पाना चाहती है वहीं आरजेडी वहां से श्री अब्दुल बारी सिद्दीक़ी को उतरना चाहती है । कांग्रेस दरभंगा के मैथिल ब्राह्मण वोटरों को अपना परंपरागत वोटर बता रही है वहीं आरजेडी मुस्लिम वोटरों को अपनी शक्ति बता रही है। हालाँकि कांग्रेस 1980 के बाद वहां से कभी जीत नहीं पायी है ।

इधर दिल्ली में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज सुबह 11.30 बजे श्री सिन्हा औपचारिक रूप से कांग्रेस ज्वाइन करने वाले थे, किन्तु किसी अधिकृत सूचना के आभाव में अटकलों का सिलसिला शुरू हो गया था। बाद में कांग्रेस और श्री सिन्हा ने यह स्पष्ट किया कि श्री सिन्हा 6 अप्रैल को कांग्रेस ज्वाइन करेंगे। इस बीच बिहार कांग्रेस प्रभारी श्री शक्ति सिंह गोहिल का पटना सिटी सीट के उल्लेख किये बिना यह कहना कि श्री सिन्हा कांग्रेस ज्वाइन करेंगे और हमारे स्टार लीडर और कंपेनर होंगे, कांग्रेस कि परेशानियां ही दर्शाती है ।
श्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के आधुनिक चुनावी प्रयोगों के आलोक में, भारतीय गणतंत्र के इस सत्रहवें महाकुम्भ में यह देखना महत्वपूर्ण होगा कि श्री सिन्हा बीजेपी में और कांग्रेस महागठबंधन में अपनी अपनी अनदेखी से मुक्त होते हैं या समझौता कर अपना अस्तित्व क़ायम रखते हैं ।

उधर,लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार महागठबंधन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है।सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल के बीच खींचतान अभी भी जारी है। बिहार में लोकसभा सीटों के बंटवारे को लेकर महागठबंधन में चल रहे अंतर्विरोध के बीच बिहार के कांग्रेसी नेताओं के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दिल्ली में आपात बैठक खत्म हो गयी है ।बताया जा रहा है कि सीटों के बंटवारे और उम्मीदवार को लेकर महागठबंधन में सहयोगी दल राष्ट्रीय जनता दल के साथ चल रहे विवाद को सुलझा लिया गया है । बिहार के पार्टी नेता प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर रणनीति की जानकारी देंगे । मालूम हो कि बिहार के पार्टी नेताओं प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा, कौकब कादरी, अखिलेश सिंह, सदानंद सिंह ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ बैठक की ।

कांग्रेस चुनाव समिति की बैठक में कांग्रेस ने 11 सीटों का ऐलान कर दिया। कांग्रेस पार्टी बिहार में 11 सीटों पर अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारेगी

शुक्रवार को हुई कांग्रेस चुनाव समिति की बैठक के बाद कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह ने बताया कि कांग्रेस पार्टी बिहार में अपने 11 प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतारेगी। अखिलेश सिंह ने आगे कहा कि उम्मीदवारों के नामों पर अंतिम फैसला पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी करेंगे। जिसके बाद उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की जाएगी।

 बिहार कांग्रेस उम्मीदवारों के नामों की अंतिम लिस्ट राहुल गाँधी के पास भेजेगी। जिसके बाद वह उस पर अंतिम फैसला करेंगे। मीडिया में पहले से ही ख़बरें चल रहीं थी कि बिहार महागठबंधन में कांग्रेस पार्टी के खाते में 11 सीटें आ सकती हैं वहीँ आरजेडी 20 सीटों पर अपने उम्मीदवारों को खड़ा करेगी। इसी के साथ बची हुईं सीटों पर महागठबंधन के अन्य दल चुनाव लड़ेंगे। सीटों के बंटवारे को लेकर बताया जा रहा है कि महागठबंधन में अब आरजेडी और कांग्रेस के बीच विवाद लगभग समाप्त हो गया है।

वहीँ बताया जा रहा है कि अब मांझी को लेकर अब भी महागठबंधन में सीटों को लेकर विवाद बना हुआ है। जीतन राम मांझी उपेंद्र कुशवाहा रालोसपा से ज्यादा सीटों की मांग कर रहे हैं। अब आगे देखना होगा कि मांझी महागठबंधन में टिक पाते हैं या वह अलग होकर अपने उम्मीदवारों को चुनावी मैदान में उतारेंगे।

मालूम हो कि इससे पहले खबर आयी थी कि सीटों के बंटवारे का लेकर राजद के रवैये से बिहार के कई कांग्रेसी नेता नाखुश थे । बुधवार की देर रात तक पार्टी की स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में बिहार के पार्टी नेताओं ने राजद के रवैये के खिलाफ नाराजगी जताते हुए महागठबंधन से अलग होने की बात कही थी । इसी अंतर्विरोध को लेकर आज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ बिहार के पार्टी नेताओं ने बैठ की । बिहार में सभी सात चरणों में मतदान होंगे। पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को होगा जबकि सातंवें और अंतिम चरण का मतदान 19 मई को होगा। वोटों की गिनती 23 मई को होगी।

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

शुरुआत क्षणो में ईभीएम में आई गड़बड़ी को फौरन ठीक कर सुचारूपूर्वक हुआ मतदान,कई केन्द्र पर बीएलओ की हुई शिकायत

सुभाष चन्द्र झा कोशी टाइम्स @ सहरसा. लोकसभा चुनाव के तृतीय चरण में मधेपुरा लोकसभा एवं खगड़िया लोकसभा के लिये ...