Home » Others » भारतीय संयुक्त परिवार व्यवस्था मानवता के लिए अनुपम वरदान-राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

भारतीय संयुक्त परिवार व्यवस्था मानवता के लिए अनुपम वरदान-राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

सुभाष चन्द्र झा
कोसी टाइम्स@सहरसा 

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वारा रविवार को महावीर चौक स्थित राजकुमार गुप्ता के आवास पर आयोजित की गई । जिसमें मुख्य शिक्षक ज्ञान प्रकाश दत्त के संचालन में सूर्य नमस्कार मंत्र एकात्मता स्त्रोत व हनुमान चालीसा का पाठ किया गया। डाॅ मुरारी कुमार ने योग व प्राणायाम करवाया जिसमें अनुलोम विलोम,कपालभाॅति ,भ्रामरी व ॐकार ध्वनि का उच्चारण किया गया ।

इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रतिनिधि सभा में पारित प्रस्ताव को बौद्धिक के रूप में वाचन किया गया । परिवार व्यवस्था हमारे समाज का मानवता को दिया हुआ अनमोल योगदान है।अपनी विशेषताओ के कारण हिन्दू परिवार व्यक्ति को राष्ट्र से जोड़ते हुए वसुधैव कुटुंबकम तक ले जाने वाली यात्रा की आधारभूत ईकाई है ।परिवार व्यक्ति की आर्थिक व सामाजिक सुरक्षा की सम्पूर्ण व्यवस्था के साथ साथ नई पीढ़ी के संस्कार निर्मित एवं गुण विकास का महत्वपूर्ण माध्यम है।हिन्दु समाज के अमरत्व का मुख्य कारण इसका बहुकेन्द्रित होना है एवं परिवार व्यवस्था इनमें से एक सशक्त तथा महत्वपूर्ण केन्द्र है ।भोगवादी मनोवृत्ति एवं आत्मकेन्द्रितता का बढ़ता प्रभाव इस परिवार विखंडन के मुख्य कारण है ।परिवार के भावनात्मक संरक्षण के अभाव में नई पीढ़ी में एकाकीपन भी बढ़ रहा है ।अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा का यह स्पष्ट मत है कि अपनी परिवार व्यवस्था को जीवंत तथा संस्कारक्षम बनाए रखने हेतु आज व्यापक एवं महती प्रयासो की आवश्यकता है ।अपने पूर्वजों के स्थान व मूल परिवार के साथ सजीव सम्पर्क व जुड़ाव रखनी चाहिए ।इस मौके पर जिलासहसंघचालक डॉ मुरलीधर साहा , हरिनंदन सिंह, ई रामेश्वर ठाकुर,अनिल सिंह , जटाशंकर चौधरी, नारायण साह , मनोज झा, सुरेश सिन्हा, उदाहरण भगत , रणधीर सिन्हा , आशीष टिंकू , सुभाषअग्रवाल ,बालमुकुन्द गुप्ता , श्याम कुमार , रणधीर भगत,गंगा प्रसाद सुमन सहित बड़ी संख्या में स्वयंसेवक मौजूद रहे।

Comments

comments

x

Check Also

“बिहार की धरती”

बिहार की धरती चाणक्य आर्यभट्ट और अशोक गौरवान्वित हुआ समस्त भूलोक बौद्ध–जैन–सिख–नव अवतरण शिक्षा–ज्ञान का उदित संचरण दिनकर की कलम-राष्ट्र ...