Home » Others » मेहनत और बुद्धि से ऐसे मिलेगी सफलता

मेहनत और बुद्धि से ऐसे मिलेगी सफलता

Advertisements

संजय कुमार सुमन 

sk.suman379@gmail.com 

रुचि, योग्यता, प्रवीणता, परिश्रम…ये कुछ ऐसे शब्द हैं, जो किसी की सफलता की राह निर्धारित करते हैं। हालांकि इन शब्दों का अलग-अलग भी काफी महत्व है, पर जब ये एक साथ मिल जाते हैं, तो व्यक्ति की सफलता सुनिश्चित होती है।मन लगाकर किया गया कोई भी काम व्यक्ति को सफलता की ओर ले जाता है, जबकि बेमन और अरुचि से किया गया काम नकारात्मक परिणाम देता है। आप थोड़ी देर के लिए जरा अपने अतीत में झांकिए। ऐसे दो कार्यों को याद कीजिए, जिनमें से एक को आपने अपनी रुचि से किया हो और दूसरी को अरुचि से। परिणाम को याद कीजिए। आप पाएंगे कि रुचि के काम में आपको ज्यादा सफलता मिली। किसी काम में दिलचस्पी आपको वह ऊर्जा देती है, जिससे राह की तमाम मुश्किलें भी आसान हो जाती हैं।

life success tips in hindi

सभी कहते हैं कि मेरे पास पैसा नहीं है कि मैं पढ़ नही सकता हूँ,कैसे कोचिंग कर सकूँ ….तो सुनिए एपीजे अब्दुल कलाम ने भी अख़बार बेचकर देश का सर्वोच्च पद प्राप्त किया है तो क्या आप नहीं कर सकते। दोस्तों बिना कोचिंग के पहले भी अभ्यर्थी सफल होते रहे हैं और आज भी हो रहे हैं। बस आपको थोड़ा मेहनत ज्यादा करनी पड़ेगी।अगर आपके पास पैसा नहीं है तो योग्यता बनाइये और मुझे लगता है कि जिसके अंदर वास्तविक योग्यता होगी वो खाली नहीं रह सकता। पैसा कोई सफलता के रुकावट का कारण नहीं है। धीरू भाई अम्बानी भी करोड़पति पैदा नहीं हुए थे किसी के यहाँ नौकरी करके खुद को करोड़पति बनाया। आपको परिवार का समर्थन नहीं मिलता ये भी कोई मुख्य कारण नहीं है। असफलता का ….आपका परिवार आपको बेहतर जानता है ..बस उन्हें अपनी आशाएं बताइये ..निश्चय ही वो मान जायेंगे और अगर नहीं मानते तो उनके खिलाफ जाइये वो आपको घर से नहीं निकाल देंगे और आपकी सफलता में सबसे ज्यादा ख़ुशी उन्ही को होगी। आज का काम कल पर मत छोड़िये।आप लोग सोचते हो आज और ऐसा कर लें फिर कल से नहीं और इसी कल कल के चक्कर में जिंदगी गुजर जाती है। जो सोचो उसे तुरंत करो।

पाउलो कोएलो ने कहा था कि “जब तुम वास्तव में कुछ पा लेना चाहते हो तो सारी कायनात उसे हासिल करने में तुम्हारी मदद करती है।” मित्रों ,पर कुछ पाने कि जिद भी आपको खुद में पैदा करनी होगी।  संघर्ष किस चीज में नहीं है पर एक बात और है जो विवेकानंद जी ने कहा था ” जितना बड़ा संघर्ष होगा जीत उतनी ही शानदार होगी ” और दोस्तों अगर जीत पक्की हो तो कायर भी लड़ जाते हैं बहादुर तो वे कहलाते हैं जो हार निश्चित होने पर भी मैदान नहीं छोड़ते। फैसला आपका है आप बहादुर हैं या कायर …..

life success tips in hindi

हिटलर ने एक खूबसूरत पंक्ति कही थी कि “अगर हम बिना संघर्ष के सफल होते हैं तो वह केवल जीत होती है पर अगर हम संघर्ष के साथ सफल होकर दिखाते हैं तो वह इतिहास बनता है।” एक बात और अगर आप अपनी किस्मत के इंतजार में बैठे हैं कि वो बदलेगी और आपको आईएएस बना देगी तो सुनिए मेहनत मोहताज नहीं होती किस्मत की और लकीरों की . … और इंतजार करने वालो को सिर्फ उतना मिलता है जितना मेहनत करने वालों से छूट जाता है।

कनाडा की पेंटाथलान खिलाड़ी हैं डोना वकालिस। डोना, ओलंपिक मेडल जीतने के लिए कड़ी मशक़्क़त करती हैं। वो ट्रेनिंग से वक़्त निकालकर पार्ट टाइम टीचिंग भी करती हैं ताकि अपनी ट्रेनिंग का ख़र्च उठा सकें।

ऑस्ट्रेलिया के तैराक मैथ्यू एबट, 2012 में लंदन ओलंपिक में भाग नहीं ले सके थे। क्वालीफ़ाइंग राउंड में वो महज़ 0.02 सेकेंड से चूक गए। पदक जीतने का सपना तो टूटा ही, साथ ही सरकार की तरफ़ से मिलने वाली मदद के दरवाज़े भी बंद हो गए।लेकिन मैथ्यू ने हार नहीं मानी। रियो ओलंपिक 2016 में फिर से किस्मत आज़माने के लिए उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के कॉमनवैल्थ बैंक का रुख़ किया। वहां उन्होंने चार साल तक हफ़्ते में दो दिन काम किया। तब जाकर उन्हें रियो ओलंपिक में जाने का टिकट ले पाए।

मिसेज इंटरनेशनल तेजस्विनी

किसी चीज को हासिल करने की जिद्द और कड़ी मेहनत आपको सफलता जरूर दिलाती है। इस कहावत को सच साबित करके दिखाया है तेजस्विनी सिंह ने। वह अपनी कड़ी मेहनत की वजह से सिंगापुर में आयोजित कार्यक्रम में मिसेज इंटरनेशनल चुनी गई ।इस प्रतियोगिया में तेजस्विनी के अलावा अन्य कई देश की प्रतिभागियों ने भी हिस्सा लिया था। तेजस्विनी इस कामयाबी का श्रेय अपनी सेल्फ ट्रेनिंग और दो साल की कड़ी मेहनत को देती हैं।

आपने ये बात किसी ना किसी से भी सुनी होगा कोई भी सफलता अपनी कीमत जरूर मांगती है बिना मेहनत किये या बिना समय लगाये आप किसी भी काम में सफलता प्राप्त नहीं कर सकते। अगर आपको success चाहिए तो आपको उसके लिये dedicated लगना होता है और बहुत मेहनत करनी पड़ती है। तब कही जाकर आप को वो मिलता है जो आप अपनी लाइफ से चाहते है।

समय लगाने के बाद और हार्ड वर्क करने के बाद क्या सफलता 100% मिल जाती है?

वैसे तो ये सच है अगर आप hard work करते है और समय के अनुसार करते है तो 99% आपको कामयाबी मिल ही जाती है। किन्तु 1% कभी-कभी नहीं मिल पाती है ऐसा क्यों होता है। क्यों 1 प्रतिशत लोग फ़ैल हो जाते है। दोस्तों, क्या आपको पता है एक प्रतिशत लोग क्यों असफल होते है मेहनत करने के बाद भी।उसकी सबसे बड़ी बजह है अपने schedule पर ध्यान न देना, अपनी मंजिल clear न होना।

यह हो सकता है की आपको मेरी या बात थोड़ी अजीब लगे लेकिन यह सही है। आप वह काम कभी मत करें जिसमें आपको कड़ी मेहनत लगती हो और अगर आप वह करेंगे तो उससे तनाव पैदा होगा उसे करके आप कभी भी न तो खुश होंगे और न ही संतुष्ट।

इससे तो अच्छा है की आप भीख मांगकर खाइए यह बेहतर है दुखी होने से। कम से कम आप यह काम तो ख़ुशी से कीजिये। आप काम को अपने लिए इतना मुश्किल बनाने जा रहे है तो तय है की आप अपने आस पास के लोगों को भी दुखी कर देंगे। अगर आपके काम करने से लोग दुखी होते है तो बेहतर है की आप कुछ मत करिए। लेकिन अगर आप ख़ुशी फैलाते है तो जीतना हो सकता है उतना फैलाइए।

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

महादेव लाल मध्य विद्यालय चौसा में ‘अंतरराष्ट्रीय हाथ धुलाई दिवस ‘आयोजित

कोसी टाइम्स प्रतिनिधि@चौसा,मधेपुरा  प्रखंड मुख्यालय स्थित महादेव लाल मध्य विद्यालय में ‘अंतरराष्ट्रीय हाथ धुलाई दिवस ‘ मनाया गया । मौके ...