Home » Recent (Slider) » बीएनएमयू : कुलपति ने फहराया तिरंगा ,उपलब्धियों एवं भावी कार्य योजनाओं की भी दिया जानकारी

बीएनएमयू : कुलपति ने फहराया तिरंगा ,उपलब्धियों एवं भावी कार्य योजनाओं की भी दिया जानकारी

विवि संवावददाता

मधेपुरा

आजादी के 71 वर्षों में देश ने काफी प्रगति की है। दुनिया हर क्षेत्र में हमारी प्रगति का लोहा मान रही है। आज हम अपने देश में बड़ी-बड़ी रेलगाड़ियाँ एवं वायुयान तक बनाने में सक्षम हैं। यह बात कुलपति डॉ. अवध किशोर राय ने कही। वे गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर शनिवार को कुलपति कार्यालय परिसर स्थित दीक्षांत मंच पर झंडोत्तोलन के बाद उपस्थित जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर कुलपति ने गणतंत्र के महत्व पर प्रकाश डाला और विश्वविद्यालय की उपलब्धियों एवं भावी कार्य योजनाओं की भी जानकारी दी।

कुलपति ने कहा कि 26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ। हमारा संविधान किसी भी नागरिक के साथ जाति, धर्म, संप्रदाय, लिंग, भाषा एवं क्षेत्र किसी भी आधार पर कोई भेदभाव नहीं करता है। यह दुनिया में एक आदर्श संविधान है। यह भारत को एक संप्रभुत्व संपन्न समाजवादी, पंथनिरपेक्ष एवं लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित करता है।

कुलपति ने कहा कि संविधान की प्रस्तावना संविधान की आत्मा है। इसमें सभी नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक एवं राजनैतिक न्याय सुनिश्चित करने का आदर्श प्रस्तुत किया गया है। साथ ही यह सबों के लिए स्वतंत्रता, समानता एवं बंधुता की गारंटी देता है। संविधान में अधिकारों के साथ-साथ कर्तव्यों की भी चर्चा है। हम समाज एवं राष्ट्र के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें। हम 1950 में राजनैतिक गणतंत्र बने, अब हमें सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षणिक गणतंत्र बनना है। हम सबों को एक समान एवं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलाने का संकल्प लें। ‘राष्ट्रपति का बेटा हो, या भंगी की संतान सबकी शिक्षा एक समान’ इस आदर्श को चरितार्थ करें।

कुलपति ने कहा कि संविधान की सफलता उसे लागू करने वाले पर निर्भर करता है। डाॅ. अंबेडकर ने कहा है कि संविधान बुरा साबित होता है, यदि उसे लागू करने वाले बुरे हों और संविधान अच्छा साबित होता है, यदि उसका पालन करने वाले अच्छे हों। डाॅ. अंबेडकर के इस सूत्र वाक्य में संविधान एवं देश की सफलता निर्भर है। कुलपति ने कहा कि हम विश्वविद्यालय के प्रति समर्पित रहें। केवल यह न सोचें कि विश्वविद्यालय ने हमारे लिए क्या किया ? बल्कि यह भी सोचें कि हम विश्वविद्यालय के लिए क्या कर सकते हैं ?

कुलपति ने कहा कि बीएनएमयू में संसाधनों का घोर अभाव है। इसके बावजूद हम प्रगति के पथ पर अग्रसर हैं। यदि हौसला बुलंद हो, तो सीमित संसाधनों के बावजूद बेहतर प्रदर्शन किया जा सकता है। इसके पूर्व टी. पी. काॅलेज, मधेपुरा एवं मधेपुरा काॅलेज, मधेपुरा के एनसीसी कैडेट ने गुड्डु कुमार एवं लेफ्टिनेंट गौतम कुमार के नेतृत्व में गार्ड आॅफ आॅनर दिया। कुलपति आवासीय कार्यालय में भी झंडोत्तोलन किया गया। साथ ही कुलपति एवं अन्य ने भूपेन्द्र नारायण मंडल की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

इस अवसर पर प्रति कुलपति डॉ. फारूक अली, वित्त परामर्शी सुरेश चंद्र दास, डीएसडब्लू डॉ. अनिल कांत मिश्र, सिंडीकेट सदस्य द्वय डॉ. परमानंद यादव एवं डाॅ. जवाहर पासवान, डीएसडबल्यू डाॅ. शिवमुनि यादव, कुलानुशासक डाॅ. अरुण कुमार यादव, प्रभारी कुलसचिव डाॅ. कपिलदेव प्रसाद, वित्त पदाधिकारी डाॅ. एम. एस. पाठक, पीआरओ डॉ. सुधांशु शेखर आदि उपस्थित थे।

प्रति कुलपति ने फहराया तिरंगा

संविधान लागू हुए 68 वर्ष बीत गया। इतने दिनों में संविधान को प्रौढ़ होना चाहिए। हम आत्ममंथन करें कि जिन मूल्यों के लिए संविधान बना, हम उनका कितना संरक्षण एवं संवर्धन कर रहे हैं। यह बात प्रति कुलपति डॉ. फारूक अली ने कही। वे शनिवार को गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर नार्थ कैम्पस में झंडोत्तोलन के बाद जनसमूह को संबोधित कर रहे थे।

प्रति कुलपति ने कहा कि संविधान भारत के सभी नागरिकों को एक मानता है। हम एक हैं। हर स्तर पर यह दिखना भी चाहिए।कह गणतंत्र के चार स्तंभ हैं-विधायिका, कार्यपालिका, न्यायपालिका एवं खबरपालिका। ये चारों स्तंभ अपनी-अपनी जिम्मेदारी निभाएँ, तभी गणतंत्र सफल होगा।प्रति कुलपति ने कहा कि हमारा लोकतंत्र मजबूती से आगे बढ रहा है। खतरे की घङी में हम एक हो जाते हैं।

इस अवसर पर वाणिज्य संकायाध्यक्ष डाॅ. लम्बोदर झा, परिसंपदा पदाधिकारी शैलेन्द्र कुमार, डीआर एकेडमिक डॉ. एम. आई. रहमान, पीआरओ डाॅ. सुधांशु शेखर, डॉ. आर. के. पी. रमण, डाॅ. आर. पी. मंडल, डॉ. सीताराम शर्मा, डॉ. नरेश कुमार, डॉ. प्रज्ञा प्रसाद, डाॅ. रीता सिंह, डॉ. मोहित कुमार घोष, डॉ. पी. एन. सिंह, डाॅ. सिद्धेश्वर काश्यप, डाॅ. शंकर कुमार मिश्र आदि उपस्थित थे।

Comments

comments

x

Check Also

मधेपुरा:पुरैनी में कैंडल मार्च निकाल किया शहीदों को नमन

घनश्याम कुमार सहनी कोसी टाइम्स@पुरैनी, मधेपुरा सोमवार को पूर्वी औराय के ग्रामीणों ने कैंडल मार्च निकाल कर पुलवामा के शहीदों ...