Home » Recent (Slider) » साहित्य : ठंढ़ के मौसम में कैसी होती है बच्चों की दुनिया

साहित्य : ठंढ़ के मौसम में कैसी होती है बच्चों की दुनिया

Advertisements

~~ बच्चा आ ठंढा ~~

ठंढा सँ गाल गुलाबी भेल ,
रौद मे आँखि कखनो मुनैत
कखनो तकैत ,
मुलुर-मुलुर करैत ,
छोट सनक बच्चा ,

रंग-बिरंग के कपड़ा ,
छोटे सनक टोपी ,
छोटे सनक स्वेटर ,
छोट-छोट पाएर मे
छोटे-छोट मोजा ,
देखह् बच्चा के साज-सज्जा ,

एक रत्ती के हाथ
ओए मे दस्ताना ,
छोट सनक बिछौना ,
छोटे-छोट ओढ़ना ,
अहि सुन्नरता के
तकैत रही , अहि रहैत
सभहक सपना ।।

~ रुचि स्मृति

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

जब कर्नल दूल्हा अपनी शादी में दुल्हन से भी करवाने लगे फायरिंग

रोहतास ,बिहार रोहतास में हर्ष फायरिंग का दौर रुकने का नाम नहीं ले रहा है।लेकिन हद तो तब हो गई ...