Home » Recent (Slider) » साहित्य : ठंढ़ के मौसम में कैसी होती है बच्चों की दुनिया

साहित्य : ठंढ़ के मौसम में कैसी होती है बच्चों की दुनिया

~~ बच्चा आ ठंढा ~~

ठंढा सँ गाल गुलाबी भेल ,
रौद मे आँखि कखनो मुनैत
कखनो तकैत ,
मुलुर-मुलुर करैत ,
छोट सनक बच्चा ,

रंग-बिरंग के कपड़ा ,
छोटे सनक टोपी ,
छोटे सनक स्वेटर ,
छोट-छोट पाएर मे
छोटे-छोट मोजा ,
देखह् बच्चा के साज-सज्जा ,

एक रत्ती के हाथ
ओए मे दस्ताना ,
छोट सनक बिछौना ,
छोटे-छोट ओढ़ना ,
अहि सुन्नरता के
तकैत रही , अहि रहैत
सभहक सपना ।।

~ रुचि स्मृति

Comments

comments

x

Check Also

मधेपुरा:पुरैनी में कैंडल मार्च निकाल किया शहीदों को नमन

घनश्याम कुमार सहनी कोसी टाइम्स@पुरैनी, मधेपुरा सोमवार को पूर्वी औराय के ग्रामीणों ने कैंडल मार्च निकाल कर पुलवामा के शहीदों ...