Home » गीत / गजल » क्योंकि वो हारा नहीं, एक अजय विजेता है -प्रीति भारती

क्योंकि वो हारा नहीं, एक अजय विजेता है -प्रीति भारती

Advertisements

सब चले जा रहे हैं ,
अपनी मंज़िल की तलाश में ,
कुछ के लिए है मखमल का रस्ता ,
कुछ का है काँटों भरा |

प्रश्न है स्वाभाविक मेरा ,
क्यों अलग होता कारवां यहाँ ?
क्यों है इतनी भिन्नता हर जगह ?
और कष्ट अनेक , हर मोड़ पे ,

हीरे की खोज में ,
कालिख में लथ – पथ काया ,
जी – तोड़ परिश्रम करता है ,
तब जाकर उसका अस्तित्व निखरता है |

जान अलग है , सांस अलग है ,
समय चक्र एक पर ,
सामर्थ्य अलग है सबका ,
तभी तो भिन्न रंग दिखता है |

कुछ पाने के प्रयास में ,
काफी कुछ खो कर भी ,
खुद को पा लेना , संजोग नहीं !
कड़ी मेहनत का सबसे स्वादिष्ट भोग है |

मुसाफिर खड़ा अपने दम पर ,
स्वावलंबन का अभ्यास लिए ,
काफी दर्द समेंटे अपने अंदर ,
हर पल मुस्काता रहता है |

झुकना उसका स्वभाव नहीं ,
विवश्ता ही उसको गिराता है !
हाँथ जोड़ अगर निवेदन करता ,
उपहास न कर इस मानव का !

उपहार में कुछ देना ,
मुश्किल होता है अगर ,
उससे तीखे शब्द नहीं ,
बस थोड़ा मधुर बोल !

क्योंकि वो हारा नहीं ,
एक अजय – विजेता है ,
गिर कर उठना, उठकर संभलना,
जीना उसको आता है !

✍️ रचना-प्रीति भारती,कटिहार बिहार

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

देश में अन्नदाता किसानों को खुशहाल बनाने की धरातल पर पहल कब

आजाद भारत में हम सबका पेट भरने वाले अन्नदाता को आयेदिन अपने अधिकारों और हक को हासिल करने के लिए ...