Home » शेर ओ शायरी

शेर ओ शायरी

रवीश रमन रचित कविता ●”मज़हबी रंग”

“मज़हबी रंग” कभी-कभी अजीब लगता है देख कर हो जाता हूं दंग मजहब बताने लगा है हमारा और तुम्हारा रंग ...

Read More »