Home » Recent (Slider) » साहित्य:छल कपट धोखा

साहित्य:छल कपट धोखा

Advertisements

छल कपट धोखा

छल कपट धोखा

सब देखा और

सहा तेरे प्यार में

क्या मेरे प्यार की

यही कीमत थी

कोसी टाइम्स

अंतिम सांस तक

साथ निभाने का

किया था तुमने वादा

बीच मझधार में ही छोड़कर

खुद पार कर गया नैया

कोसी टाइम्स

कितने वादों को पूरा करने का

तूने खाई थी कसम

तेरा वादा

तेरी कसम

तेरी मोहब्बत

सब निकला फरेब

तू फरेब है

या है तेरी मोहब्बत

यह खुद ना जान पाया

और मैं

निभाता रहा मोहब्बत

छल कपट धोखा

सब देखा और

सहा तेरे प्यार में।

संजय कुमार सुमन

मंजू सदन,चौसा

मधेपुरा 852213

Comments

comments

Advertisements
x

Check Also

कटिहार: एम्बुलेंस सेवा नहीं म‍िली तो ठेले पर लादकर अपनी बीमार पत्नी को ले गया अस्पताल

कोसी टाइम्स प्रतिनिधि@ कटिहार बीमार मरीजों को अस्‍पताल तक ले जाने के ल‍िए शुरू की गइ एम्बुलेंस 108 सेवा अब ...