Home » Recent (Slider) » साहित्य”आज की नारी”

साहित्य”आज की नारी”

आज की नारी

आज की नारी कहती –
मुझे किसी के भी स्नेह भरी छाँव की जरूरत नहीं,
अब अकेले ही इस कड़ी धूप में पिघलने दो मुझे;
सब करीबी लोंगों का सानिध्य बहुत पा लिया,
इसलिए थोड़ा दर्द -ओ-ग़म में भी ढ़लने दो मुझे !

दर्द -ओ के लिए इमेज परिणाम

आज की नारी कहती है-
मेरे त्याग बलिदान व प्यार को किसी ने भी समझा नहीं;
हर किसी ने समझा कभी मुझे कमज़ोर तो ढ़ूढ़ा मुझमें लाख खाम़ियाँ भी कहीं;
ऐ खुदा ! भर दे इतनी खूबियों से तू मेरा दामन और,
बन कर एक कसक कमी सबके दिलों में खलने दो मुझे ।

प्रेम दामन के लिए इमेज परिणाम

आज की नारी कहती है-
सहारे की तलाश में जो मैं भटकते रही उम्र भर;
और इस वजह से बन गयी इक दिन मैं बोझ सब पर;
कृप्या कर के छोड़ दो मुझे अकेला अब और नहीं बनना मुझे किसी पे भी बोझ,
दो कदम ही सही पर खुद के दम पर तो अब चलने दो मुझे ।

आज की नारी कहती है-
कब तक दूसरों के सहारे आगे बढ़ूगी मैं ?
आख़िर कब तलक हर किसी पे बोझ बनी रहूंगी मैं ?
ऐ दोस्त ! थोड़ा भरोसा तो कर मेरे दृढ़ हौसले पे तू,
और अब खुद ही पल-पल गिरने संभलने दो मुझे ।

भरोसा के लिए इमेज परिणाम

आज की नारी कहती है-
ऐ मुश्किलों ! मत कर हिम्मत मेरे मंजिलों को रोकने की तू,
क्योंकि मैं आँधी में जलते हुए उस दीये की तरह से हूँ ;
जो हर-पल, हर-दिन जिंदगी और मौत से जूझती रहती है,
तो ऐ हवा ! मुझे बुझाने की कोशिश मत कर अब इस तूफां में भी जलने दो मुझे !

“प्रिया सिन्हा”
पूर्णिया (बिहार)

Comments

comments

x

Check Also

मधेपुरा में पहली बार हो रहे डांडिया महोत्सव की तैयारी पूरी

  मधेपुरा में आयोजित होने वाले दो दिवसीय डांडिया महोत्सव की तैयारी पूरी कर ली गयी है.जिले में पहली बार ...