Home » Recent (Slider) » बज्जिका गीत-“हे बूढी”

बज्जिका गीत-“हे बूढी”

हे बूढी

हे बूढी

घर में के बरतन बजइछऔ दाल,

चाउर अपने चलइछऔ ॥

कथी करबऽ तू कुच्छो न बुझाइछऔ

कथी करबऽ तू कुच्छो न सुझइछऔ

बूढी के लिए इमेज परिणाम

हे बूढी

घर में के बरतन नचइछऔ॥

दाल ,चाउर अपने चलइछऔ ॥

चुप्पे तू बईठ के तमासा देखइछऽ

चुप्पे तू बईठ के पासा फेंकइछऽ

बूढी के लिए इमेज परिणाम

हे बूढी

घर में के बरतन भगइछऔ

दाल ,चाउर अपने चलइछऔ ॥

इ दुनिया के नाया रिबाज हई

इ दुनिया के नाया मिजाज हई

हे बूढी

घर में के बरतन करइछऔ

दाल ,चाउर अपने चलइछऔ ॥

देखें वीडियो 

संजय ‘विजित्वर’

हाजीपुर,पटना 

Comments

comments

x

Check Also

कटिहार:तकनीकी सहायकों के लिए काउंसलिंग कल,प्रतिनियुक्त किए गए दंडाधिकारी

तौक़ीर रज़ा कोसी टाइम्स@कटिहार पंचायती राज विभाग के अंतर्गत तकनीकी सहायकों के लिए 17 नवंबर को एवं लेखापाल-सह- आईटी सहायकों ...