Home » Breaking News » जदयू विधायक बीमा भारती के बेटे दीपक की मौत की गुत्थी का राज सुलझा, मौत के मामले में नया खुलासा

जदयू विधायक बीमा भारती के बेटे दीपक की मौत की गुत्थी का राज सुलझा, मौत के मामले में नया खुलासा

संजय कुमार सुमन 

समाचार सम्पादक@कोसी टाइम्स

** पूर्णिया दौड़े से 

जद यू विधायक बीमा भारती के बेटे दीपक राज की मौत की गुत्थी लगभग सुलझ गयी है। घटना वाली रात दीपक के साथ मौजूद उसके दोस्तों ने पुलिस के सामने जो कुछ कबूल किया है वह चौंकाने वाला है। पुलिस की पूछताछ में दीपक के दोस्तों ने उगले कई राज। सीसीटीवी फुटेज में लॉज से निकलकर जाते दिखे चार दोस्त। विधायक बीमा भारती के बेटे दीपक कुमार की मौत के मामले में नया खुलासा हुआ है। दीपक की मौत के बाद मामले की तफ्तीश तेज हो गयी है। रेल एसपी व एसएसपी मनु महाराज अपनी पूरी टीम के साथ मामले की छानबीन में जुटे हुए हैं। पुलिस ने मृत्युंजय, ऋृतिक रौशन के अलावा उसके तीन और दोस्तों को हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ जारी है। अब तक की पूछताछ में दीपक के दोस्तों ने जो कुछ कबूल किया है उससे एेसा लग रहा है कि दीपक की मौत हादसे के कारण हुई है। अाशंका जाहिर की जा रही है कि दीपक रेलवे ट्रैक की तरफ दौड़ा और ट्रेन से टकरा जाने से उसके सिर में गंभीर चोट आयी, जिससे उसकी मौत हो गयी है।बेटे की मौत के गम में रोते-रोते विधायक बीमा भारती के अब आंसू भी सूख गये पर वे सदमे से उबर नहीं पायी हैं। उनकी आंखे खुली हैं, सबको देख भी रही हैं पर कुछ बोलती नहीं।

गिरफ्तार किए गए मृत्युंजय और ऋतिक ने पुलिस के समक्ष झूठ बोला था कि वो रात में सो गए थे और दीपक अकेले निकल गया था। कड़ाई से पूछताछ करने के बाद दोनों ने राज खोला है। उन्होंने बताया कि घटना की रात में बाजार समिति की महावीर कॉलोनी स्थित लॉज से निकलकर क्रॉसिंग की ओर जाते समय दीपक अकेले नहीं था बल्कि साथ में उसके दोस्त भी थे।सीसीटीवी फुटेज से भी पता चला है कि लॉज से चार लड़के एक साथ निकले थे। इनमें दीपक भी था। पुलिस सूत्रों की मानें तो सभी पैदल थे। रात सवा दो बजे के आसपास का समय रहा होगा। चार लड़के साथ में निकले थे लेकिन लौटते समय केवल तीन ही थे। मृत्युंजय, ऋतक और दीपक के साथ विकास नाम का लड़का भी था। दीपक के दोस्तों मृत्युंजय और ऋतिक ने जब यह भेद खोला तब पुलिस ने विकास को भी हिरासत में लिया। उससे भी पूछताछ की जा रही है।घटनाक्रम की मानें तो नशे में होने के कारण पुलिस को देख कर सभी डर गये।पुलिस सूत्रों की मानें तो देर रात पैट्रोलिंग पार्टी ने इन लड़कों को एनएमसी के पास टोका था। पुलिस के डर से वे सभी भागने लगे। इस भागा-भागी में दीपक तीनों दोस्तों से बिछड़ गया। मृत्युंजय, विकास और ऋृतिक रौनश भाग कर वापस रूम पर पहुंचे गये, लेकिन दीपक नहीं पहुंचा। सभी रूम में सो गये और सुबह दीपक के मौत की खबर मिली।

इधर, जांच में पुलिस को कई अहम सुराग मिले हैं। शनिवार को पुलिस टीम ने बाजार समिति स्थित पुष्पविला लॉज के कमरे से अंग्रेजी शराब की दो खाली बोतलें भी बरामद की है। पुलिस सूत्रों की मानें तो इन चारों ने मिलकर पार्टी की थी। इसके बाद वो बाहर निकले थे।

दीपक का फ़ाइल फोटो 

हत्या या हादसा सस्पेंस बरकरार 

दीपक की हत्या हुई या वो हादसे का शिकार हो गया, इस पर सस्पेंस बरकरार है। दीपक के दोस्तों ने झूठ क्यों बोला कि वह (दीपक) अकेले ही लॉज से निकल गया था। पोस्टमार्टम हाउस के सूत्रों की मानें तो दीपक की मौत सिर के बीचो बीच में लगे गंभीर चोट से हुई है। चाकू या गोली से मौत होने की पुष्टि नहीं हुई है। घटना स्थल से ऐसा कोई सबूत भी नहीं मिला है लेकिन, यह मामला हादसा और हत्या के बीच में लटक रहा है। अगर साजिश के तहत सब कुछ हुआ तो इसके पीछे कौन है, इस सवाल का हल पुलिस को खोजना है।

गिरफ्तारी की मांग

विधायक बीमा भारती के पति अवधेश मंडल ने सरकार से अपने बेटे के हत्यारे की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की है। उन्होंने कहा है कि साजिश के तहत उनके बेटे की हत्या की गयी है। उन्होंने कहा कि उनके बेटे की हत्या में जिन लोगों ने साजिश रची है उसके बारे में पुलिस और सरकार को पता है।श्री मंडल ने कहा है कि उन लोगों ने पहले भी उनके माता-पिता की हत्या कर उनका बसा-बसाया घर उजाड़ दिया था ।अब जब सब कुछ ठीक चल रहा था, तब दुश्मनों ने उनके घर में आग लगाने की कोशिश की। उन्होंने मुख्यमंत्री से इंसाफ की गुहार लगायी है और कहा है कि उनका पूरा परिवार अभी भी डरा और सहमा हुआ है। उन्होंने पूरे परिवार की सुरक्षा की गुहार लगायी है।
 लड़की से प्रेम करता था दीपक

दीपक परिवार में सबसे शांत लड़का था। वो अपनी मां विधायक बीमा भारती के साथ पटना में रहकर ही पढ़ाई करता था। दो माह पूर्व गांव के ही शिक्षक की पुत्री से प्रेम मामले में दीपक की फोटो फेसबुक पर वायरल हुई थी। जिसको परिवार वालों ने खारिज कर दिया था।दीपक खुद भी पढ़ाई में बहुत मजबूत नहीं था। इस कारण उसने बिहार संस्कृत शिक्षा बोर्ड से मैट्रिक की परीक्षा पास की थी।जिस लड़की से दीपक प्रेम करता था वह लड़की फिलहाल इंटर में पढ़ाई कर रही है और दोनों एक दूसरे को बचपन से जानते थे। शादी को लेकर घर में या दोनों परिवारों के बीच काफी विवाद भी चल रहा था। इसी कारण लड़की के घर वाले लड़की को यहां से हटाने के ख़याल से पढ़ाई के लिए चंडीगढ़ भेज दिया था। कहा जाता है कि विधायक पुत्र उससे मिलने चंडीगढ़ भी जाता था। दीपक के दोस्तों ने पुलिस को बताया कि दीपक हमेशा अपनी प्रेमिका से बात करता था। सूत्रों की माने तो इसके बाद से ही वो खफा-खफा चल रहा है। हालांकि मौत की वजह हत्या और आत्महत्या के बीच ही झूल रही है।

पूर्व विधायक समेत सात पर मामला दर्ज
बीमा भारती हत्‍या बता रहीं हैं।दीपक के पिता और विधायक बीमा भारती के पति अवधेश मंडल का कहना है कि उनके बेटे के मोबाइल पर कुछ दिनों पहले धमकी भरे कॉल आए थे। कॉल करने वाला शख्स गुगुल मंडल था। जो लिब्रेशन आर्मी के अध्यक्ष व पूर्व विधायक शंकर सिंह के लिए काम करता है। अवधेश मंडल ने अपने बेटे की हत्या के लिए पूर्व विधायक शंकर सिंह और चंदन सिंह समेत 7 लोगों को नामजद किया है। इसमें से 5 लोग पूर्णिया में रहते हैं। अवधेश मंडल के अनुसार उसके बेटे की हत्या के पीछे शंकर मंडल,संतोष मंडल, राजेश मंडल और मुकुल मंडल का हाथ है। अवधेश मंडल और बीमा भारती का दावा है कि उनके बेटे के उपर चाकू से वार किया गया है। साजिश के तहत हत्या की गई। साजिश के तहत ही शंकर सिंह और चंदन सिंह ने दीपक के दोनों दोस्तों ऋतिक रौशन और मृत्युंजय को इस्तेमाल किया। खाने के बहाने लॉज पर बुलवाया और फिर उसकी हत्या कर दी। बीमा भारती के लिखे आवेदन पर पटना रेल पुलिस ने दीपक की हत्या का एफआईआर दर्ज कर लिया है। एफआईआर नंबर 269/18 पटना जंक्शन रेल थाने में दर्ज किया गया है। शंकर सिंह और चंदन सिंह से अवधेश मंडल की पुरानी अदावत रही है। आरोप है कि साल 2003 में इन दोनों ने मिलकर अवधेश मंडल के पिता अर्जुन मंडल और मां की हत्या कर दी थी। उस वक्त अवधेश मंडल खुद जेल में सजा काट रहे थे।

अपनी माँ बीमा भारती के साथ दीपक(फ़ाइल फोटो)

दो मोबाइल व दो सिम कार्ड थे

दीपक  हमेशा अपने पास दो मोबाइल फोन रखता था। एक फोन की स्क्रीन टूटी हुई थी। उसने बहादुरपुर स्थित लॉज से निकलने के पहले टूटे स्क्रीन वाले मोबाइल फोन  को कमरे में ही छोड़ दिया था। उसमें से सिम कार्ड निकाल कर पॉकेट में रख  लिया था। इन बातों से यह स्पष्ट है कि दीपक को किसी ने फोन कर बाहर बुलाया  और वह अपना एक मोबाइल फोन कमरे में छोड़ कर निकल गया। इस बात को भी यह  पुष्ट करता है कि दीपक वापस कमरे में जाता लेकिन इसी बीच उसके साथ यह घटना घटी, जिससे उसकी मौत हो गयी। मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। जानकारी के मुताबिक दीपक की कमर पर भी जख्म के गहरे निशान पाये गये हैं। कमर के जख्म  को देख कर चाकू लगने की  आशंका जतायी जा रही है। शव को देखने से प्रथमदृष्टया मामला हत्या का लग रहा है। दीपक के पास से 80 हजार रुपये का आईफोन, एक सिम व  लाइटर मिला है।  
बताया जा रहा है कि दीपक देर रात मुसल्‍लहाहपुर हाट इलाके में दोस्‍तों रितिक और मृत्युंजय संग पार्टी करने निकला था। इसक बाद वह कब और कैसे एनएमसीएस के पास रेल ट्रैक पर पहुंचा, इसका फिलहाल पता नहीं चल सका है। दोनों दोस्त सीपी ठाकुर कॉलेज से स्नातक कर रहे हैं।

दोस्तों ने कहा, गर्लफ्रेंड से हाल ही में हुआ था ब्रेक-अप 
पुलिस पूछताछ में दोस्‍त रितिक और मृत्युंजय ने बताया कि दीपक का रानी नाम की लड़की से प्यार था। दीपक रानी से मिलने के लिए चंडीगढ़ तक गया था। हाल में दोनों का ब्रेक-अप हुआ है। उन्‍होंने बताया कि दीपक पार्टी के बाद रात करीब 10:30 बजे अचानक गायब हो गया। इसके पहले वह जब से कमरे में आया था, तभी से रानी के बारे में बातचीत कर रहा था। दीपक रानी से शादी करना चाहता था, लेकिन रानी के परिवार वाले इसके लिए तैयार नहीं थे।हालांकि यह पता नहीं चल सका है कि विधायक पुत्र रेलवे ट्रैक तक कैसे पहुंचा।

पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) मनु महाराज ने बताया कि दीपक कुमार (21) अपने कुछ दोस्तों के साथ घर से निकला था। कुछ स्थानीय लोगों ने शहर में एनएमसीएच अस्पताल के सामने रेलवे पटरी के पास दीपक का शव देखा और पुलिस को इस संबंध में सूचित किया।  दीपक के माथे और जांघ पर चोट के निशान हैं। शव को पोस्टमॉर्टम के लिये भेज दिया गया है। एसएसपी ने बताया कि दीपक के दोस्तों रोशन और मृत्युंजय को हिरासत में ले कर उनसे पूछताछ की जा रही है। बताया जाता है कि मृतक का परिवार रोशन और मृत्युंजय को जानता है। दोनों ने दावा किया कि खाने के बाद दीपक चला गया था और उन्होंने समझा कि वह घर सुरक्षित पहुंच गया होगा। दीपक की मौत की जांच हत्‍या और आत्‍महत्‍या दोनों ही एंगल से की जा रही है। पुलिस हर पहलू की गंभीरता से छानबीन कर रही है।

2012 में दीपक को खिलाया गया था जहर,पिता पर है आरोप 

रूपौली विधायक बीमा भारती के जिस पुत्र दीपक की हत्या का मामला दर्ज हुआ है, उसे एक नवंबर 2012 को जहर खिलाकर मारने की भी कोशिश की गई थी। यह मामला अकबरपुर ओपी में विधायक बीमा भारती ने ही दर्ज कराया था।प्राथमिकी में विधायक ने अपने पति एवं बच्चे के पिता अवधेश मंडल को आरोपित बनाया था। उस वक्त दीपक की उम्र 16 वर्ष की थी। यह तब की घटना है जब बीमा का दांपत्य जीवन ठीक नहीं चल रहा था। यह घटना तब हुई थी जब वह गांव में कोई धार्मिक अनुष्ठान चल रहा था। बाद में उसे गंभीर हालत में पूर्णिया के एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।  पति से चल रही अनबन के दौरान बीमा भारती ने पति अवधेश मंडल पर बेटे को समोसा में जहर मिलाकर खिलाने का आरोप लगाया था। इस मामले को लेकर काफी दिनों तक विवाद बना रहा।

सदमे में बीमा भारती
 बेटे की मौत के गम में रोते-रोते विधायक बीमा भारती के अब आंसू भी सूख गये पर वे सदमे से उबर नहीं पायी हैं।  उनकी आंखे खुली हैं, सबको देख भी रही हैं पर कुछ बोलती नहीं।  भिट्ठा स्थित अपने घर में बिछावन पर वे चेतनाशून्य सी सदमे में बीमा भारती पड़ी हुई हैं। हालांकि डाॅक्टर और नर्स लगातार उनके स्वास्थ्य का चेकअप कर रहे हैं, पर स्थिति जस की तस है। भवानीपुर के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ नवीन कुमार ऊपरोझिया ने बताया कि पल्स सदमे से उबर और बीपी सामान्य है।  नींद नहीं होने से थोड़ी परेशानी है, पर यह धीरे-धीरे सामान्य हो जायेगा। 

Comments

comments

x

Check Also

सहरसा अंचल के वरीय लिपीक का रिश्वत लेते विडियो वायरल, निलंबित

**जिलाधिकारी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल प्रभाव से किया निलंबित राजेश कुमार डेनजिल कोसी टाइम्स@सहरसा जिले के ...