Home » Recent (Slider) » चित्त की वृत्तियों का निरुद्ध हो जाना ही योग है-योगी संजू दीदी

चित्त की वृत्तियों का निरुद्ध हो जाना ही योग है-योगी संजू दीदी

विवेकानंद

कोसी टाइम्स@सत्तर कटैया,सहरसा

आज के योग शिविर में लोगों में बहुत ही उत्साह देखा गया। योग से हमारा जिवन स्वस्थ और सुंदर होता है।सत्तर कटैया प्रखंड के लालगंज गाँव में साधु स्थान मे लगे योग शिविर में योगी संजू दीदी ने जिवन से सम्बन्धित कुछ महत्वपुर्ण बातें बतायी।संजू दीदी ने बतायी एलोपैथी दवाई से बचें ,योग और आयुर्वेद का सहारा लें। योग एवं एलोपैथी का तुलनात्मक अध्ययन करके किसी चिकित्सा पद्धति पर प्रश्न चिन्ह लगाना मेरा लक्ष्य नही है ,अपितु रोगी के सामने भिन्न- भिन्न चिकित्सा पद्धति चुनने का अवसर उपलब्ध कराना चाहते हें। ताकि सभी स्वस्थ और निरोगी हो ।व्यक्ति बाजार से जहर खरीद कर मृत्यु को आमन्त्रण दे सकता है ,मौत के पर्याय केंसर जैसे रोगों को उत्पन्न करने के लिये जिम्मेदार तम्बाकू व शराब आदि को व्यक्ति कहिं से भी खरीद कर खा सकता है ,परन्तु रोग के कारण मौत के करीब पहुंच चुका इन्सान अपने आरोग्य के लिये अपनी मर्जी की चिकित्सा पद्धति का चयन नही कर सकता। रोगी के हितों को तिलांजली देकर अपने व्यवसाय हितों के लिये कुछ शक्तिशाली दवा निर्माता कम्पनियाँ उपचार के नाम पर अत्याचार करने में लगी हुयी है ।

सत्तर कटैया प्रखंड के लालगंज गाँव में साधु बाबा स्थान पर नि:शुल्क पाँच दिवसीय योग शिविर का आयोजन किया गया । योगी संजू दीदी के द्वारा इस योग शिविर में हर रोगों पर योग और प्राणायाम को बताया जा रहा है । इस योग शिविर के आयोजक शुभाष पाठक और शिवशंकर झा जी हैं शिविर में उपस्थित शतिश कुमार झा ,रामचंद्र झा,रौशन कुमार झा,घनश्याम,विकास,कुन्दन,राजदिप,सीताराम ,रानी कुमारी ,विसेसर साह,रामदेव दास,सुनील कुमार,राजकुमार,पप्पू अरहुल देवी अन्य मौजुद रहे ।

Comments

comments

x

Check Also

मधेपुरा:मुरलीगंज में ऑटोजाॅन का उद्घाटन

रणजीत कुमार सुमन कोसी टाइम्स@मुरलीगंज ,मधेपुरा मधेपुरा पूर्णिया एनएच 107 के सटे रामपुर के पास ऑटोजाॅन का उद्घाटन किया। मुरलीगंज ...