Home » Breaking News » बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के आवास की सुरक्षा घटाए जाने से सियासत तेज

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के आवास की सुरक्षा घटाए जाने से सियासत तेज

संजय कुमार सुमन 

उप सम्पादक@कोसी टाइम्स 

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के साथ बिहार विधान परिषद में विरोधी दल की नेता और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की सुरक्षा में कटौती किये जाने को लेकर सियासत तेज हो गयी है. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के आवास की सुरक्षा घटाए जाने से उनके बेटे और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव समेत आरजेडी के कार्यकर्ता नाराज हैं. राबड़ी ने घर की सुरक्षा में तैनात बाकी गार्ड्स को भी लौटा दिया है. पार्टी के विधायक भी अपनी सुरक्षा वापस करने का मन बना रहे हैं. दूसरी ओर, पुलिस का कहना है कि लालू प्रसाद के परिवार की सुरक्षा न बढ़ाई गई है और न घटाई गई हैं.सुरक्षा कटौती के बाद भड़की राबड़ी देवी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को खूब खरी खोटी सुनायी. राबड़ी देवी ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मेरे आवास पर छापेमारी हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने साथ सीबीआई लेकर आये थे. राबड़ी ने कहा कि आवास लेना चाहते हैं, तो यह लोग आवास भी ले लें. वे लोग डरने वाले नहीं हैं. उन्होंने कहा कि बिहार की जनता जवाब देगी. राबड़ी देवी ने गुस्से में कहा कि जान लेने की कोशिश में है सरकार. जान भी ले ले. हमलोग जान देने को तैयार हैं.

राबड़ी देवी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि लालू परिवार को खत्म करने की साजिश रची जा रही है. इस साजिश में नीतीश कुमार और सुशील मोदी शामिल हैं. उन्होंने कहा कि रात के नौ बजे सुरक्षा में कटौती की गयी. लोग देखें कि यह सरकार क्या कर रही है. मुझे और मेरे परिवार को मारने की साजिश रची जा रही है.  उन्होंने कहा कि दो चार गो सिपाही लेकर हम क्या करेंगे. हमें नहीं चाहिए सुरक्षा. राबड़ी ने कहा कि दिन-रात जनता के लिए हमारा दरवाजा खुला रहता है. सरकार ने पूरी तरह मरवाने का मन बना लिया है. वहीं इस कार्रवाई के बाद सियासत तेज हो गयी है, जदयू ने इसे कानूनी कार्रवाई बताया है. वहीं राजद नेताओं का कहना है कि यह ईर्ष्या वश कार्रवाई की गयी है.

तेजस्‍वी यादव ने अपनी सुरक्षा में लगे जवानों को वापस भेजा

राबड़ी ने नीतीश को लिखी चिट्ठी

आवास पर लालू की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों को वापस बुला लिए जाने से नाराज राबड़ी देवी ने सीएम नीतीश कुमार को खत लिखकर अपनी नाराजगी लगाई है. खत में राबड़ी ने लिखा है, “अगर मेरे और मेरे परिवार के साथ कोई अप्रिय घटना होती है, तो उसकी जिम्मेदारी गृह विभाग और गृह विभाग के मंत्री की होगी.”

लालू परिवार के किसी भी सदस्य की न ही सुरक्षा बढ़ाई गई है और न ही हटाई गई. जिनके नाम से सुरक्षा गार्ड की तैनाती की जाती है, उनकी गैरहाजरी में वे सुरक्षाकर्मी अपने स्थान पर वापस हो जाते हैं.
बच्चू सिंह मीना
पुलिस महानिरीक्षक (सुरक्षा)
Image result for बच्चू सिंह मीना
नीतीश कुमार पर तेजस्वी के इतने ज्यादा गुस्से की वजह है लालू यादव के परिवार को लगा डबल झटका. पहले राबड़ी देवी के घर पर सीबीआई की रेड पड़ी और फिर उनकी सुरक्षा में कटौती कर दी गई. रेड के दौरान चार घंटे तक राबड़ी देवी और उनके दोनों बेटों से सीबीआई ने कई सवाल किए. दरअसल, सीबीआई ने रेल टेंडर घोटाले में पूछताछ के लिए राबड़ी देवी को नोटिस भेजा था लेकिन बार-बार बुलाने पर भी जब राबड़ी हाजिर नहीं हुईं तो सीबीआई ही उनके घर पहुंच गई. अभी सीबीआई रेड पर आरजेडी नेताओं-कार्यकर्ताओं का गुस्सा शांत भी नहीं हुआ था कि सुरक्षा में कटौती का विवाद भी सामने आ गया.
नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोलते हुए तेजस्वी यादव ने लिखा, ”नीतीश जी, और निम्नस्तर पर उतरिए. मेरी माता श्रीमती राबड़ी देवी जी ने पूर्व सीएम की हैसियत से प्राप्त सुरक्षा, मेरे भाई को विधायक के नाते और मुझे नेता प्रतिपक्ष के नाते प्राप्त सुरक्षा को बिहार के सीएम नीतीश कुमार को वापस सौंप रहे हैं, ताकि वो तुच्छ ईर्ष्यालु कार्य छोड़ सकारात्मक कार्यों पर ध्यान केन्द्रित कर सके. विगत 10 महीने से सुरक्षा की श्रेणी निर्धारित करने और बढ़ाने के लिए अनेकों बार नीतीश कुमार के अधीन गृह विभाग को लिखा, लेकिन ईर्ष्यावश बहाने दर बहाने किए. नीतीश कुमार बढ़ाने की बजाय इसमें कटौती कर रहे है. आज CBI पूछताछ के बाद नीतीश कुमार ने तुरंत हाउस गार्डस को हटाने का आदेश दिया है“.
Image result for बच्चू सिंह मीना
तेजस्वी यादव ने लिखा ”हम नीतीश कुमार की तरह डरपोक और बुज़दिल नहीं, जो अपनी सुरक्षा के लिए 800 जवान तैनात रखेंगे. हमारे द्वारा लौटाए हुए सुरक्षाकर्मियों को नीतीश कुमार अपनी सुरक्षा में लगा कर संख्या बल बढ़ा कर संतुष्टि प्राप्त कर सकते है. हम गरीब जनता के बीच रहते हैं. जनता ही हमारी असल प्रहरी है. आज दिन में नीतीश कुमार ने असंवैधानिक तरीके से मुझे नेता प्रतिपक्ष के नाते कैबिनेट मंत्री के समान प्राप्त अधिकारों को दरकिनार करते हुए सरकारी आवास खाली करने का नोटिस निर्गत करवाया है और शाम को परिवार की सुरक्षा कटौती के लिए दूत भेज दिए.“

इस बीच, जेडीयू के प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि संविधान से ऊपर कोई नहीं है. उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद जेल में हैं, अब उनकी सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी तो वापस होंगे ही.

 

Comments

comments

x

Check Also

बनमनखी में कल काझी के भागवत् कथा में मनाना जाएगा श्रीकृष्ण जन्मोत्सव

सोहन कुमार कोसी टाइम्स@बनमनखी,पूर्णियां बनमनखी अनुमंडल के काझी हृदयनगर पंचायत के राजपूत टोला लक्ष्मी स्थान मंदिर प्रांगण में चल रहा ...