Home » मनोरंजन » मगही भाषा की पहली फिल्म ‘देवन मिसिर’ जल्‍द होगी रिलीज

मगही भाषा की पहली फिल्म ‘देवन मिसिर’ जल्‍द होगी रिलीज

चंचल कुंमार । पटना.

हास्य सम्राट देवन मिसिर के नाम पर बनी पहली मगही फिल्‍म ‘देवन मिसिर’ बिहार और झारखंड में जल्‍द ही रिलीज होगी। ये जानकारी आज फिल्‍म के निर्माता– निर्देशक मिथिलेश सिंह ने दी। उन्‍होंने बताया कि फिल्‍म के पोस्‍ट प्रोडक्‍शन का काम लगभग पूरा हो चुका है और अब जल्‍द ही हम इसके रिलीज की तारीख की भी घोषणा करेंगे। ‘प्रयास सिनेमा पैंथर्स व श्री विकम एंटरटेंमेंट के बैनर तले निर्मित इस फिल्म की शूटिंग कोडरमा, गया और पटना के आकर्षक स्थलों पर की गई है। इसमें दर्शकों के मनोरंजन के साथ-साथ देवन मिसिर की कहानी को जीवंत बनाया गया है।

उन्‍होंने कहा कि टिकारी दरबार के हाजिर जवाबी हास्य सम्राट देवन मिसिर की कथा पर आधारित यह फिल्‍म लोगों को खूब हंसायेगी। इस फिल्‍म में सभी कलाकार बिहार से आते हैं और वे कहीं न कहीं थियेटर से जुडें हैं। इन्‍होंने फिल्म में देवन मिसिर के हाजिर जवाबी और मनोरंजक प्रसंग को जीवंत बना दिया है। यह पहली ऐसी बायोपिक भी होगी, जो ऐतिहासिक हास्य पर आधारित है। इस फिल्म के निर्माण में आधुनिक तकनीक का सहारा लिया गया है, जो फिल्‍म की प्रस्तुति को खूबसूरत बनाया है। फिल्‍म में प्रवीण सप्पू, इंद्राणी तालुकदार, मनीष महिवाल, दीप श्रेष्ठ, उदय श्रीवास्तव, सुबंती बनर्जी, रूपा सिंह, अरविंद कुमार, बुल्लू कुमार, प्रीति सिन्हा, अनुपमा पांडेय, रूबी खातून, अजय मिंटू और सत्येंद्र संगीत नजर आयेंगे।

वहीं, फिल्‍म के सहायक निर्देशक रवि बबलू ने कहा कि फिल्म कमाल की बनी है, जिसमें बिहार के लोकगीत एवं संस्कृति को बेहतरीन तरीके से पिरोया गया है। देवन मिसिर अपने आप में अदभुत थे। मगध में वे काफी चर्चित शख्सियत थे। अभी तक उनकी कहानी लोक गाथाओं के रूप में हमारे सामने थी, मगर अब जल्‍द ही बड़े पर्दे पर लोगों का मनोरंजन करेगी। गौरतलब है कि फिल्म के प्रचारक रंजन सिन्हा हैं, जबकि फिल्म में संगीत अजीत कुमार अकेला (दिवंगत) ने दिया है। गीत हरिश्चंद्र प्रियदर्शी, सत्येंद्र स्वामी,मिथिलेश सिंह, मिथिलेश कुमार सुमन ने लिखा है. लखविंद्र सिंह लक्खा, बिजली रानी, कल्पना, इंदु सोनली, आलोक कुमार, अजीत कुमार अकेला, रघुवीर यादव और सुजीत कुमार उमा ने फिल्म के गाने को अपनी सुरीली आवाज दी है। फिल्म के सह निर्माता डॉ. रंजय कुमार और कुंदन कुमार हैं।

Comments

comments

x

Check Also

” भ्रष्टाचार” कुणाल आनंद की कविता

” भ्रष्टाचार” जनता को सपने दिखाकर वोट के लिए गिड़गिड़ाता है खुशियों से झोली भर दूंगा ऐसे सपने दिखता है ...