Home » Breaking News » कोसी के लाल के बनाये डिवाइस से बिजली चोरी पर लगेगी पुर्णतः रोक

कोसी के लाल के बनाये डिवाइस से बिजली चोरी पर लगेगी पुर्णतः रोक

स्ट्राइवर प्रशांत l कोसी टाइम्स 

अभी हाल ही में बिहार के 12वीं के खराब रिजल्ट आने से यहाँ के बच्चों के मेधा पर सवाल खड़ा किया लेकिन बिहार की मेधा प्राचीन काल से अबतक पुरे विश्व में सर चढ़कर बोल रहा है.अभी एक बार फिर एक बिहारी बीटेक अध्यनरत छात्र ने पुरे भारत सहित विदेशों का ध्यान अपने नये आविष्कार को लेकर आकृष्ट कर लिया है.मैं बात कर बिहार राज्य के सहरसा जिले के अमिश  कात्यायन की.

अमिश इस समय गुरुगोविंद सिंह इन्द्रप्रस्थ विवि दिल्ली से इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इलेक्ट्रिकल इंजिनयरिंग में द्वितीय वर्ष का छात्र है.इन्होने एक ऐसा  डिवाइस तैयार किया है जिसकी मदद से बिजली की चोरी को पूरी तरह से रोका जा सकता है.अमिश और इनके गाजियाबाद निवासी दोस्त द्वारा तैयार यह स्मार्ट मीटर जब विधुत विभाग द्वारा घर में लगाये गये मीटर  के साथ कनेक्ट कर दिए जायेंगे तो उपभोक्ता द्वारा अगर मीटर के साथ थोडा सा भी छेड़खानी किया जायेगा तो तुरंत इसकी सुचना सम्बन्धित विभाग को चले जाएगी.इसके साथ ही उस उपभोक्ता का विधुत कनेक्शन तत्काल कट जायेगा और उस कनेक्शन को फिर विधुत विभाग के अधिकारी ही जोड़ पाएंगे.

अमिश ने बताया कि बिजली विभाग के आंकड़ो के अनुसार हर वर्ष लगभग 30 फीसदी बिजली मीटर में छेड़छाड़ कर चोरी कर लेने से हो जाता है जिससे सरकार को करीब हर वर्ष 30 हजार करोड़ का नुक्सान होताहै.लेकिन इस समार्ट मीटर के बिजली मीटर से कनेक्ट कर देने से बिजली चोरी पर पूर्ण रूप से विराम लग जायेगा.

अमिश ने किस तरह बनाया है यह स्मार्ट मीटर 

कोसी टाइम्स को अमिश  ने फोन पर इस सम्बन्ध में पूरा डिटेल बताया है.उन्होंने बताया कि मीटर के कवर पर मेग्नेट सेंसर लगाया गया है.इसके अलावा थेफ़्ट डिडेकशन सिस्टम सिस्टम में जीसीएम सिम लगाया गया है.लोग मीटर कवर को जैसे ही खोलेंगे ,उसमे लगे सेंसर की मदद से पास के कनेक्ट बिजलीघर में सायरन बजने लगेगा ,इसके साथ ही सम्बन्धित अधिकारी के मोबाइल पर मीटर से छेड़खानी के सन्देश सहित उस उपभोक्ता के सारे डिटेल उनतक पहुँच जायेंगे .अमिश ने बताया कि इस डिवाइस को एक महीने में तैयार किया गया है.मीटर सहित कुल लागत इसकी लगभग चार हजार की है,जो मीटर हटाने पर कम भी हो जाएगी.

अमिश के मन में ऐसे आया था इस तरह के डिवाइस बनाने का विचार 

अमिश ने बताया कि करीब एक डेढ़ महीने पूर्व वो मेट्रों में सफर कर रहा था .इस दौरान दोनों ने दो लोगों के मुंह से मीटर के छेड़खानी करने की बात सुनी थी ,जो उस समय उसके दिमाग पर जोड़ डाल दिया था कि ये तो समाज के लिए गलत है और इससे सरकार को बहुत बड़ा घाटा का सामना हर वर्ष करना पड़ता  है तो क्यों न एक ऐसा डिवाइस तैयार किया जाय जिससे इस तरह के घटना को रोका जा सके .यहीं विचार अमिश के मन में आया .फिर क्या था दोनों लग गये और अपने मेहनत से एक ऐसा डिवाइस तैयार कर डाला कि आज पुरे भारत में सुर्ख़ियों में आ गया है.

कौन है अमिश 

सहरसा के परारी गाँव के व्यवसाई किशोर कुमार के सुपुत्र है अमिश कत्यायान.अमिश बताते है कि सहरसा के अजय मिश्रा सर ने मुझे बचपन  में पढने हेतु बहुत मोटिवेट किया था.शायद इसी वजह से मैं यहाँ तक पहुँच पाया हूँ.श्री अमिश ने बताया कि इसे केन्द्रीय विधुत मंत्री पियूष गोयल के समक्ष प्रस्तुत करने की कोशिश की जा रही है.

 

Comments

comments

x

Check Also

सहरसा:नवहट्टा में ग्राम स्वराज अभियान का उद्धाघाटन

राहुल कुमार कोसी टाइम्स@नवहट्टा,सहरसा ग्राम स्वराज अभियान के अंतर्गत मिशन इंद्रधनुष कार्यक्रम का  नवपदस्थापित विडियो विवेक रंजन के द्वारा फिताकाटर ...